पुलिस का मुखबिर होने के संदेह में नक्सालियों ने दो ग्रामीणों को दी ये खौफनाक सजा, पढक़र कांप जाएगी आपकी रूह

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Sep 2018 02:54:23 PM
Naxalites killed two villagers in suspected police informer

रायपुर। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में कथित तौर पर नक्सलियों ने दो ग्रामीणों का अपहरण करके पुलिस का मुखबिर होने के संदेह में उनकी हत्या कर दी। एक पुलिस अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकार दी। दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लवा ने एक समाचार एजेंसी को बताया है कि हुंगा करमा और भीमा मुचकी के शव सोमवार रात में बचेली रेलवे स्टेशन के निकट खून से सने मिले थे। दोनों की उम्र करीब 35 साल थी। उन्होंने बताया कि बचेली शहर से ताल्लुक रखने वाले दोनों व्यक्तियों का अपहरण सशस्त्र नक्सलियों के एक समूह ने पिछले सप्ताह किया था।

नाबालिग बच्ची के साथ 65 वर्ष के व्यक्ति ने किया ये घिनौना काम और फिर ग्रामीणों ने उसकी मां के साथ भी किया ऐसा

पल्लवा ने बताया कि अपहरण की जानकारी मिलने के बाद पुलिस टीम इन लोगों का पता लगाने के लिए जंगल में छान-बीन कर रही थी। उन्होंने बताया कि सोमवार की रात करीब 11 बजे कुछ स्थानीय लोगों ने इन दोनों के शवों को रेलवे स्टेशन पर पड़ा हुआ देखा। इसके बाद एक पुलिस टीम घटनस्थल पर पहुंची और शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। अधिकारी ने बताया कि ऐसा प्रतीत होता है कि इन दोनों पर धारदार हथियार से हमला करके गला काट दिया गया।

एक मुस्लिम महिला के हिंदू लडक़े से कथित संबंध होने पर पिता और भाई ने ही उसके साथ किया ऐसा...

उन्होंने बताया कि शवों के पास से माओवादियों का पर्चा भी बरामद हुआ है जिसमें विद्रोहियों ने इन दोनों पर पुलिस का मुखबिर होने का आरोप लगाया है। पुलिस अधीक्षक ने स्वीकार किया कि करमा पुलिस के संपर्क में था और इस क्षेत्र में चलने वाले जुएबाजी की खबरें पिछले समय में पुलिस को मुहैया कराई थी लेकिन उसका संबंध नक्सल रोधी अभियान में मुखबिर के तौर पर नहीं था। अधिकारी के अनुसार प्राथमिक जांच से पता चला है कि मृतक मुचकी पहले सक्रिय माओवादी था लेकिन एक मुठभेड़ के दौरान गोली लगने के बाद उसने प्रतिबंधित संगठन छोड़ दिया था।

अपनी हवस की प्यास बुझाने के लिए युवक ने कक्षा छह की छात्रा के साथ किया ये घिनौना काम

उन्होंने बताया कि मुचकी ने बचेली में अपना इलाज कराया था और तब से वह उसी क्षेत्र में रह रहा था जहां करमा अपने परिवार के साथ रहता था। पुलिस अधीक्षक ने मुचकी की पुलिस के साथ सांठ-गांठ होने से इंकार करते हुए कहा है कि हो सकता है कि नक्सलियों ने सोचा हो कि मुचकी पुलिस के इशारे पर काम कर रहा है। उन्होंने बताया है कि इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया गया है और नक्सलियों को पकडऩे के लिए तलाश अभियान जारी है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.