खराब बर्ताव पर पाक खिलाड़ियों पर होगी सख्त कार्रवाई: सरदार

Samachar Jagat | Sunday, 04 Nov 2018 01:21:44 PM
Bad action on Pak players will be tough: Sardar

नई दिल्ली। 4 बरस पहले भुवनेश्वर में चैम्पियंस ट्रॉफी के अनुभव से सबक लेते हुए पाकिस्तानी हॉकी टीम के मुख्य कोच हसन सरदार ने इस माह के आखिर में उसी मैदान पर शुरू हो रहे विश्व कप में खिलाड़ियों को खेल के साथ अपने बर्ताव पर भी फोकस करने की ताकीद की है।

इसके साथ ही उन्होंने विश्व कप में भारत को सेमीफाइनल का प्रबल दावेदार बताते हुए कहा कि मेजबान टीम गत कुछ अर्से से अच्छे फार्म में है और घरेलू मैदान पर खेलने का उसे फायदा मिलेगा। भुवनेश्वर में चैम्पियंस ट्रॉफी 2014 के बाद पाकिस्तानी हाकी टीम पहली बार भारत में एफआईएच का कोई टूर्नामेंट खेलेगी।

4 वर्ष पहले चैम्पियंस ट्राफी सेमीफाइनल में इंडिया को हराने के बाद पाकिस्तान के कुछ खिलाड़ियों ने कमीज उतारकर दर्शकों की ओर अभद्र इशारे किए थे जिसके बाद इंडिया और पाकिस्तान के हाकी संबंधों में कड़वाहट आ गई। ओलंपिक (1984) और एशियाई खेल (1982) स्वर्ण पदक विजेता सरदार ने कराची से भाषा को दिए इंटरव्यू में कहा कि इस बार खेल के साथ टीम के बर्ताव पर मेरा पूरा फोकस होगा।

मैने खिलाड़ियों को सख्त ताकीद की है कि इस बार ऐसी कोई घटना होने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। दिल्ली में 1982 में हुए एशियाई खेलों में मेजबान भारत पर 7.1 से मिली खिताबी जीत में हैट्रिक जमाने वाले सरदार ने कहा कि भारत में बतौर खिलाड़ी उनका अनुभव बहुत अच्छा रहा है और उम्मीद है कि कोच के तौर पर भी इसमें फर्क नहीं आएगा।

उन्होंने कहा कि हमने 1982 में फाइनल में भारत को हराया था लेकिन अगले दिन हम बाजार गए तो किसी दुकानदार ने हमसे सामान के पैसे नहीं लिए। भारत में हमें बहुत प्यार मिला और पाकिस्तान में भारतीय क्रिकेटरों और हाकी खिलाड़ियों को वही प्यार मिलता है। हमें इसी रिवायत को कायम रखना है। पाकिस्तानी कोच ने कहा कि खिलाड़ी कभी भी खेलभावना के विपरीत आचरण नहीं करते लेकिन मुझे बताया गया कि उन्हें दर्शकों की ओर से उकसाया गया था।

कारण जो भी हो, इस तरह का आचरण स्वीकार्य नहीं है और हमें यकीन है कि इस बार अच्छी यादें लेकर ही हम लौटेंगे। मैदान पर चैम्पियंस ट्राफी 2014 में भी भारत और नीदरलैंड जैसी टीमों को हराकर हमारा अनुभव अच्छा रहा था। मस्कट में गत माह एशियाई चैम्पियंस ट्राफी में बारिश की वजह से फाइनल रद्द होने की वजह से पाकिस्तान को भारत के साथ संयुक्त विजेता घोषित किया गया था। बाद में कोच हसन के हवाले से खबरें आई थी कि वे फाइनल खेलना चाहते थे लेकिन भारत ने इनकार कर दिया। 

इस बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है। मैंने इतना कहा था कि हम फाइनल खेलना चाहते थे और निश्चित तौर पर भारत भी खेलना चाहता होगा। कोई खिलाड़ी नहीं चाहता कि बारिश की वजह से मैच रद्द हो पर हकीकत यह थी कि हालात खेलने लायक नहीं थे।

लेकिन टूर्नामेंट में प्रदर्शन से मेरी टीम का हौसला बढा है जिसकी विश्व कप से पहले जरूरत थी। भारतीय टीम को विश्व कप में सेमीफाइनल तक का प्रबल दावेदार बताते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय टीम अच्छे फार्म में है। चैम्पियंस ट्राफी में फाइनल खेली थी और उसे दर्शकों का समर्थन हासिल होगा जो काफी मायने रखता है। भारत भुवनेश्वर में ही अभ्यास कर रहा है और कम से कम सेमीफाइनल तक जरूर पहुंचेगा।

पाकिस्तान की संभावनाओं के बारे में में पूछने पर उन्होंने कहा कि उनका पूल कठिन है लेकिन तैयारी पुख्ता है। उन्होंने कहा कि हमारे पूल में नीदरलैंड, जर्मनी और मलेशिया है। हमारी नजरें जर्मनी पर होगी जिसने पिछले एक साल से अंतरराष्ट्रीय हाकी नहीं खेली है।

मलेशिया को हमने हाल ही में हराया है। नीदरलैंड हमसे बेहतर है लेकिन मैच के दिन फार्म में होने पर हम किसी को भी हरा सकते हैं। उन्होंने भारत और पाकिस्तान के बीच द्बिपक्षीय हाकी की बहाली की पैरवी करते हुए कहा कि इससे लोगों की हाकी में रूचि बढेगी और नई प्रतिभाएं भी सामने आएगी। हाकी के प्रचार का इससे बढिया जरिया नहीं हो सकता।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
रिलेटेड न्यूज़
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.