सिंगापुर के फुटबॉल कोच ने पगड़ी वाली टिप्पणी पर माफी मांगी

Samachar Jagat | Friday, 14 Sep 2018 10:57:14 AM
Singapore Football coach apologized for comment on turban

सिंगापुर। सिंगापुर की राष्ट्रीय फुटबॉल टीम के कोच ने यहां गत सप्ताह मैच से पहले एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान एक सिख रिपोर्टर पर की गई अपनी टिप्पणियों के लिए माफी मांग ली है।

न्यासी के रुप में कारोबार करने वाली इकाइयों के लिए नियमन कड़े करने पर चर्चा करेगा सेबी

चैनल न्यूज एशिया ने फुटबॉल एसोसिएशन ऑफ सिगापुर (एफएएस) के एक बयान के हवाले से कहा कि ''एफएएस सिगापुर और मॉरिशस के बीच मैच से पहले 6 सितंबर को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान फंडी अहमद के बयान पर खेद व्यक्त करता है जिससे सिख समुदाय के सदस्यों को चोट पहुंची।

शीर्ष उपभोक्ता मंच ने एक्सिस बैंक से ग्राहक को 50 लाख रु का भुगतान करने को कहा

बयान में कहा गया है कि फंडी और एफएएस दोनों ने रिपोर्टर दिलेनजीत सिह और सिख सलाहकार बोर्ड से संपर्क किया और माफी मांगी तथा स्पष्टीकरण दिया। इसमें कहा गया है, ''सिह ने शालीनता से हमारा स्पष्टीकरण और माफी स्वीकार कर ली।

महिलाओं के लिए पैन कार्ड नियमन में संशोधन की प्रक्रिया आरंभ हुई : मेनका गांधी

सिख सलाहकार बोर्ड के साथ हमारी चर्चा से यह भी पता चला कि टिप्पणी सिख समुदाय को चोट पहुंचा सकती थी हालांकि यह किसी दुर्भावना से नहीं की गई थी। गुरुवार को याचिका शुरू की गई जिसमें राष्ट्रीय कोच से माफी की मांग की गई थी।

याचिका के मुताबिक पूर्व स्टार फुटबॉलर फंडी ने यह टिप्पणी तब की जब सिह ने खिलाड़ियों के कौशल और तकनीक के बारे में एक सवाल पूछा था। फंडी ने कहा था, हमारा प्रदर्शन खराब नहीं है।

पतंजलि गाय के दूध के कारोबार में, कंपनी का अगले वित्तवर्ष में 1,000 करोड़ रुपए की बिक्री का लक्ष्य

मैं किसी की निंदा नहीं कर सकता क्योंकि दूसरों के मुकाबले हमारी व्यवस्था अलग है। मैं यह भी नहीं कह सकता क्योंकि यह सरकार के खिलाफ है। आप जानते हैं कि अगर मैं चिल्लाकर यह कहूंगा तो आप देखेंगे कि आपकी पगड़ी चली जाएगी....। भाषा



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.