दिल का दौरा पड़ने से मशहूर भारतीय अभिनेता नरेन्द्र झा की मौत

Samachar Jagat | Wednesday, 14 Mar 2018 12:13:28 PM
Actor Narendra Jha passes away due to cardiac arrest

मुंबई। बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता नरेन्द्र झा का आज निधन हो गया है। नरेन्द्र झा का निधन दिल का दौरा पडऩे से हुआ। वह 55 साल के थे। बताया जा रहा है कि नरेन्द्र झा की मौत वाडा स्थित उनके फार्म हाउस पर सुबह पांच बजे हुई। मौत का कारण हार्ट अटैक बताया जा रहा है। इससे पहले भी उन्हें दो बार हार्ट अटैक हो चुका था। बताया गया है कि वह अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ वक्त बिताने के लिए अपने फार्म हाउस पर पहुंचे थे, जहां यह घटना घटी।

फिल्म 'ठग्स ऑफ हिंदुस्तान' से जुड़ा एक ओर नया चेहरा!

बिहार के मधुबनी जिला निवासी नरेंद्र झा ने अपनी पढ़ाई पटना से पूरी की। इसके बाद उन्होंने दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से अभिनय की बारिकियौं का प्रशिक्षण लिया। उन्हें जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी से हिस्ट्री में पोस्ट ग्रेजुएशन किया था लेकिन बाद दिल्ली छोड़कर मुंबई आ गए और यहां उन्हें मॉडभलग के जबरदस्त ऑफर मिलने लगे। मॉडलिंग के साथ उन्होंने टीवी पर कई शो किए और लगभग 20 टीवी शो में वे नजर भी आए। वे श्याम बेनेगल की फिल्म नेताजी सुभाष चंद्र बोस में भी अहम किरदार में नजर आए थे।

7 साल बाद सिल्वर स्क्रीन पर वापसी करने जा रही है ईशा देओल

अभिनय सफर

नरेंद्र जा ने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 2002 में दूरदर्शन के शो आम्रपाली से की। उसके बाद उन्होंने छोटे पर्दे के कई बेहतरीन सीरियल्स और शो में काम किया, जिनमे छूना है आसमान, चेहरा, एक घर बनाऊंगा, कैप्टन हाउस, जय हनुमान प्रमुख है। नरेंद्र झा छोटे पर्दे पर शो हवन के हरी ओम बापजी के नाम से पहचाने जातें हैं। नरेंद्र झा ने टेलीविजन पर आए पौराणिक सीरियल'रावण' में भी लीड किरदार निभाया थी, और उनके रोल को खूब पसंद भी किया गया था।

अमिताभ बच्चन की बीमारी को लेकर पत्नी जया ने दिया ये बयान

फिल्में

नरेंद्र झा ने अपने करियर के दौरान हैदर ,रईस, काबिल ,घायल वंस रिर्टन्स, हमारी अधूरी कहानी, मोहनजोदाड़ो, शोरगुल और फोर्स-2 जैसी कई फिल्मों में अपने अभिनय का जौहर दिखाया। उन्होंने हिंदी के अलावा तमिल, तेलुगु आदि भाषाओं में भी फिल्में की हैं।

अपनी आध्यात्मिक यात्रा पर बोले रजनीकांत- स्वयं की खोज के लिए निकला हूं

नरेंद्र झा बहुत ही मस्तमौला फितरत के शख्स थे और बहुत ही मृदुभाषी भी थे। उन्होंने एक बार बताया था कि उनके घरवाले भी चाहते थे कि वे आईएएस बनें क्योंकि बिहार के अधिकतर युवाओं का यही टारगेट भी होता है। मैं भी शुरू में कुछ ऐसा ही सोचता था लेकिन एभक्टग में मन रमता था तो मैंने उसी राह पर चलने का फैसला किया।



 
loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.