पिता की कविताओं को कंपोज कर रहे हैं अमिताभ

Samachar Jagat | Monday, 14 May 2018 04:32:38 PM
Amitabh is composing father's poems

मुंबई। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन अपने पिता हरिवंश राय बच्चन की कविताओं को कंपोज कर रहे हैं। अमिताभ ने बताया कि उन्होंने अपने पिता की सबसे फेमस कविता 'मधुशाला' को संगीत से सजाकर तैयार कर लिया है और अब दूसरी कविताओं पर काम कर रहे हैं। अमिताभ ने कहा, मैं पिछले कई महीनों से संगीत को लेकर विस्तार में काम कर रहा हूं।

फिल्म-रंगमंच अभिनेता कलासला बाबू का निधन

बाबू जी की कविताएं हैं, जिनको मैं संगीतबद्ध कर रहा हूं। बाबू जी की कविताओं को संगीत से सजाकर उसी सुर और ताल में कंपोज करना और गाना चाहता हूं, जिस सुर में बाबू जी खुद सुनाते थे। मैंने मधुशाला को रिकॉर्ड कर लिया है, हो सकता है एक-आध महीने में आपके सामने पेश भी करुंगा।

बहुत सी दूसरी कविताओं को पढ़ा और संगीत के साथ सजाया भी है। अमिताभ ने कहा, मुझे ऐसा लगता है आज की जो युवा पीढ़ी है उनको साहित्य, कविताओं जैसी चीजों में उतनी दिलचस्पी नहीं है, अगर हम उन्ही कविताओं को अच्छी तरह संगीत में सजाकर पेश करें, तो हो सकता है कि आज की युवा पीढ़ी को पसंद आए।

कार्तिक और जाह्ववी को लेकर फिल्म बनायेंगे करण जौहर

'कहीं न कहीं' म्यूजिक के साथ मेरा लगाव हमेशा से रहा है, इसी वजह से यह सब कर पा रहा हूं। संगीत से तो सबको लगाव होता है। आप भी कभी बैठिए स्टूडियो में। आजकल तो वैसे भी बहुत आसान हो गया है। ऑटो ट्यूनर में डाल दीजिए, बेसुरा गाइए, गाना सुरीला बन जाएगा। बाद में उसको म्यूजिक से सजा देते हैं तो बढिय़ां गाना बन जाता है।'

मधुर भंडारकर बनायेंगे चांदनी बार का सीक्वल

जन्मदिन विशेष: दिलचस्प है जरीन का बॉलीवुड सफर, इस अभिनेता ने पहली ही नजर में दे दिया था फिल्म का ऑफर

भारतीय-फ्रांसीसी फिल्म में धनुष करेंगे बॉलीवुड डांस



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.