'फोर्स 2' : फिल्म रिव्यू 

Samachar Jagat | Friday, 18 Nov 2016 12:38:01 PM
'फोर्स 2' : फिल्म रिव्यू 

फिल्म का नाम- फ़ोर्स 2
निर्देशक- अभिनय देव
कलाकार-  जॉन अब्राहम, सोनाक्षी सिन्हा, ताहिर राज भसीन
संगीत- गौरव रोशिन
अवधि- 2 घंटे 6 मिनट
रेटिंग -3.5 स्टार 

बॉलीवुड फिल्मकार विपुल शाह ने एक्शन-थ्रिलर फिल्म 'फोर्स' की सीरीज़ आगे बढ़ते हुए इसकी गई किश्त बनाई है ‘फ़ोर्स 2’ जॉन अब्राहम के अभिनय से सजी ये फिल्म भी एक्शन-थ्रिलर फिल्म ही है। पर इस बार इसमें एक्शन का डबल तड़का लगाने के लिए दबंग गर्ल सोनाक्षी सिन्हा भी मौजूद है।

आइये देखते है कैसी है ये फिल्म -

कहानी-

फिल्म के पहले भाग में ड्रग्स का काला कारोबार करने वाले निर्दयी विष्णु (विद्युत जामवाल) को मौत के घाट उतारने के बाद मुम्बई पुलिस में कार्यरत एसीपी यशवर्धन (जॉन अब्राहम) के कन्धों पर अब एक नयी और अहम ज़िम्मेदारी है – जिम्मेदारी एक आम से दिखने वाले खूंखार आतंकी शिव (ताहिर राज भसीन) को ढूंढकर उसे कानून के हवाले करने की, जिसने रॉ एजेंट्स को ख़त्म करने की कसम खाई है। इस खतरनाक मिशन में उसका साथ देती है तेज-तर्रार रॉ एजेंट के.के (सोनाक्षी सिन्हा) साथ ही शुरू होते है कई ट्वीट्स और टर्न्स। यशवर्धन और के.के अपने मकसद में कामयाब हो पते है या नहीं ? ये जानने के लिए तो आपको सिनेमाघरों तक जाना होगा। 

स्क्रिप्ट -

2011 में रिलीज़ हुई ‘फ़ोर्स’ तमिल फिल्म ‘काखा काखा’ की हिंदी रीमेक थी, जबकि ‘फ़ोर्स 2’ एक ओरिजिनल स्क्रिप्ट पर बनी फिल्म है। लेकिन इस बार स्क्रिप्ट उतनी मज़बूत नहीं दिखी। हमेशा की तरह इस फिल्म में जॉन दुश्मनों को धोते नज़र आये। वही एक्शन वही अंदाज़ कोई नयापन नहीं। फिल्म के सेकेंड हाफ को और बेहतर एडिटिंग की जरूरत थी। 

निर्देशन-
फिल्म के निर्देशक अभिनय देव ने पूरी तरह से फाॅर्स के निर्देशक निशिकांत कामत को फॉलो किया है।  अभिनय के काम में कोई नयापन नज़र नहीं आया। जबकि इस एक्शन थ्रिलर फिल्म को और भी नए अंदाज़ बनाया जा सकता था। सिनेमेटोग्राफी शानदार है। 

अभिनय-
 2011 में रिलीज़ हुई ‘फ़ोर्स’ के लिए जॉन के अभिनय को आलोचकों की भी काफी अच्छी प्रतिक्रिया मिली थी।  अब लगभग चार साल बाद ‘फ़ोर्स 2’ से भी जॉन की वैसी परफॉरमेंस की उम्मीद की जा रही थी। मगर कमज़ोर स्क्रिप्ट के चलते जॉन पूरा दम नहीं दिखा पाए। हालाँकि उन्होंने हैरतअंगेज़ कर देने वाले एक्शन सीन्स को बखूबी अंजाम दिया है। साथ ही सोनाक्षी सिन्हा का काम भी अच्छा है। सोनाक्षी सिन्हा ने भी जबरदस्त एक्शन सीन्स दिए है। 

सोनाक्षी ने जॉन के साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर दुश्मनों को लोहे के चने चबवाये हैं।  वही फिल्म के  विलेन ताहिर राज भसीन ने भी कमाल की एक्टिंग की है। बाकि कलाकारों का काम भी सहज है। 

म्यूजिक -
फिल्म का म्यूजिक भी औसत है। आइटम नंबर, ‘काटे नहीं कटते ये दिन ये रात’श्रीदेवी के हिट का नया वर्जन है। जो मस्ती का महो बनाता है। बाकि गाने ज़्यादा भी ठीक ठाक है। बैकग्राउंड म्यूजिक भी थीम के मुताबिक है। लेकिन फिल्म का कोई भी सॉन्ग ऐसा नहीं हैं जिसे आप एक बार से ज्यादा सुन सकें। 

क्यों देखें -
एक्शन जोनर की फिल्मे पसन्द करने वाले और जॉन , सोनाक्षी के फैन है तो एक बार फिल्म देख सकते है। 


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.