सागर जैसी आंखों वाली डिंपल कपाड़िया ने अपने बोल्ड अभिनय से सभी को बनाया दीवाना, इन फिल्मों से मिली पहचान

Samachar Jagat | Saturday, 08 Jun 2019 09:28:02 AM
Happy birthday Dimple Kapadia

मुंबई। बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया उन कलाकारों में शामिल हैं जिन्होंने नायिका की परम्परागत छवि को बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। गुजराती परिवार में 08 जून 1957 को जन्मी डिंपल कपाड़िया को फिल्मों में लाने का श्रेय राजकपूर को जाता है। सत्तर के दशक में वह अपनी फिल्म बॉबी के लिए नए चेहरों की तलाश कर रहे थे। उस दौरान उन्होंने डिंपल कपाड़िया को अपनी फिल्म में काम करने का प्रस्ताव दिया जिसे डिंपल ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। 'बॉबी’ ऋषि कपूर की भी पहली फिल्म थी।

डर के माहौल में प्रभावित होती है कला : दीया मिर्जा

वर्ष 1973 में प्रदर्शित इस फिल्म में डिंपल टीन एज लड़की की भूमिका में दिखाई दीं। बॉबी की सफलता के बाद डिंपल को कई फिल्मों में काम करने के लिए प्रस्ताव मिले लेकिन उन्होंने इन सभी प्रस्तावो को ठुकरा दिया और अभिनेता राजेश खन्ना से शादी कर फिल्म इंडस्ट्री को अलविदा कह दिया। वर्ष 1984 में प्रदर्शित फिल्म जख्मी शेर से डिंपल ने फिल्म इंडस्ट्री में कमबैक किया लेकिन यह फिल्म सफल नहीं रही। वर्ष 1985 में डिंपल कपाड़िया को एक बार फिर से ऋषि कपूर के साथ सागर में काम करने का अवसर मिला। रमेश सिप्पी के निर्देशन में बनी इस फिल्म में डिंपल ने अपनी बोल्ड इमेज से दर्शको को मंत्रमुग्ध कर दिया।

स्टारडम का जादू सिर्फ रिलीज वाले दिन चलता है: तापसी

सागर के बाद डिंपल की छवि फिल्म इंडस्ट्री में एक बोल्ड अभिनेत्री के रूप में बन गई। वर्ष 1986 में प्रदर्शित फिल्म जांबाज इसका दूसरा उदाहरण बनी। वर्ष 1988 में प्रदर्शित फिल्म 'जख्मी औरत’ डिंपल की महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है। इस फिल्म में उन्होंने एक महिला इंस्पेक्टर का किरदार निभाया था जिसका बलात्कार हो जाता है और वह अपराधियो से अपना बदला लेती है। वर्ष 1991 में प्रदर्शित फिल्म 'लेकिन’ डिंपल की महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुई। इस फिल्म से जुडा रोचक तथ्य है कि गायिक लता मंगेशकर ने इस फिल्म का निर्माण किया था। फिल्म में उनकी आवाज में यारा सीली सीली..गीत श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ था।

वर्ष 1993 में प्रदर्शित फिल्म 'रूदाली’ डिंपल की महत्वपूर्ण फिल्मों में एक है। राजस्थान की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म में उन्होंने 'शनिचरी’ नामक एक ऐसी युवती का किरदार निभाया जो तमाम दुख के बाद भी नहीं रो पाती है। हालांकि यह फिल्म टिकट खिड़की पर असफल साबित हुई लेकिन अपने दमदार अभिनय से डिंपल कपाड़िया ने दर्शकों के साथ ही समीक्षकों का भी दिल जीत लिया। डिंपल कपाड़िया अब तक तीन बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की जा चुकी हैं। डिंपल ने चार दशक लंबे सिने करियर में लगभग 75 फिल्मों में अभिनय किया है। डिंपल के करियर की उल्लेखनीय फिल्मों में से कुछ हैं..अर्जुन, एतबार, काश, राम लखन, बीस साल बाद, बंटवारा, प्रहार, अजूबा, नरसिम्हा, गर्दिश, क्रांतिवीर, दिल चाहता है, बीइग सायरस, दबंग, कॉकटेल, पटियाला हाउस 2008 आदि। -एजेंसी

पीएम मोदी सहित इन तीन लोगों के साथ डिनर पर जाना चाहती हैं कैटरीना कैफ



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.