फिल्मकार बनने नहीं नौकरी करने मुंबई आये थे इम्तियाज अली

Samachar Jagat | Thursday, 24 Nov 2016 08:37:57 AM
फिल्मकार बनने नहीं नौकरी करने मुंबई आये थे इम्तियाज अली

पणजी।  बालीवुड में ‘जब वी मेट’, ‘लव आज कल’, ‘रॉकस्टार’ जैसी फिल्मों से अलग पहचान बना चुके निर्देशक इम्तियाज अली का कहना कि जब वह मुंबई आए थे, तो उनका फिल्मकार बनने का कोई इरादा नहीं था, बल्कि किसी काम की तलाश में थे, ताकि वह वहां रह सके।निर्देशक ने कहा कि भविष्य के लिए योजना बनाने की बजाय, वह केवल जीवन में जो भी उनके समक्ष आता है उस पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

ये बात इम्तियाज ‘एनएफडीसी फिल्म बाजार’ के एक सत्र में बता रहे थे। इम्तियाज ने कहा, ‘‘ मैं हमेशा से ही थिएटर करता था और जहां तक मुझे याद है...मैं मुंबई नौकरी की तलाश में आया था और मैं कोई भी काम करने के लिये तैयार था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने पहले बतौर निर्माण-सहायक प्रोडक्शन असिस्टेंट और फिर क्रिएटिव कॉन्सेप्चुलाइजर  काम किया...और फिर आखिरकार मैंने टेलीविजन पर निर्देशन करना शुरू किया। ’’ 

बॉईस्कोपवाला’ के लिए डैनी डेंजोंगप्पा बिल्कुल सही हैं : देब मेढेकर 

निर्देशक ने कहा, ‘‘ मैंने टेलीविजन पर काम करते समय ही फिल्मों के लिए लिखना शुरू कर दिया था, लेकिन मुझे कोई सफलता नहीं मिली। इसलिए मैंने टेलीविजन पर काम करना जारी रखा, क्योंकि मुझे अपना घर चलाना था। मुझ पर काफी जिम्मेदारियां थी। ’’

बालीवुड को कई सफल प्रेम कहानियां देने वाले इस निर्देशक को पूर्व में किए अपने किसी भी काम को लेकर कोई पछतावा नहीं है। 
उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे लगता है कि मैंने जो भी किया, वह अच्छा था...क्योंकि इससे मुझे काम करने को मिला। मैं नौकरी पाकर खुश था। मेरा लक्ष्य कभी भी निर्देशक बनना नहीं था। ’’

इम्तियाज ने कहा कि वह जब पीछे मुडक़र अपनी जिंदगी का सफर देखते हैं, तो उन्हें लगता है कि सब पहले से ही लिखा हुआ था। 
उन्होंने कहा, ‘‘ अब जब..मैं सब चीजों का पुनरावलोकन करता हूं, तो यह आकस्मिक प्रतीत नहीं होता। ऐसा लगता है कि कोई कहानी लिख रहा था...लेकिन वह कोई निश्चित रूप से मैं नहीं था। मैं बस वह करता गया, जो मैं कर सकता था और जो मुझे करने का मौका मिला । ’’

अब दिल्ली में भी खुलेगा मैडम तुसाद म्यूजियम

इम्तियात ने कहा, ‘‘ आखिरकार मैंने एक पटकथा लिखी, जिसका नाम था, ‘सोचा ना था’ । फिर मैं सनी देओल से मिला, उन्होंने बड़े धैर्य से पूरी कहानी सुनी और अंत में उन्होंने कहा कि हम इस पर काम करेंगे। ’’

 

एजेंसी 

 

आखिर क्यों पसंद किया जाता है युवाओं द्दारा लिव-इव रिलेशन जानिए

इन तरीको से करेगें अपनी गर्लफैंड को प्रपोज तो नहीं करेगी कभी मना

जन्म के बाद नवजात शिशु को इन खतरों से बचाएं

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.