बॉलीवुड में लघु फिल्में बनाना इस डायरेक्टर को लगता है बेहद चुनौतीपूर्ण

Samachar Jagat | Friday, 02 Nov 2018 04:06:46 PM
Making short films in Bollywood makes this director feel extremely challenging

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। बॉलीवुड के जाने माने निर्देशक सुजॉय घोष का कहना है कि लघु फिल्में बनाने का प्रचलन लंबे समय से फिल्म जगत में है लेकिन इसे मुख्य धारा में लाने के कोई प्रयास नहीं किए गए। 'क्रिटिक्स च्वाइस शॉर्ट फिल्म अवॉर्ड' (सीसीएसएफए) के जरिए लघु फिल्मों के लिए काम करने वाले लोगों की प्रतिभा को सम्मानित करने के लिए निर्देशक श्रीराम राघवन और फिल्म समीक्षक अनुपमा चोपड़ा और राजीव मसंद के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।


फिल्म हाउसफुल- 4 में नाना पाटेकर की जगह लेगा साउथ का ये सुपरस्टार

घोष ने एक साक्षात्कार में कहा, ''लघु फिल्में मुख्यधारा में नहीं है क्योंकि हम अब भी इस पर काम कर रहे हैं कि उन्हें कैसे कमॢशयल किया जाए, लेकिन इसके बावजूद भी यह उन लोगों के लिए एक बड़ा मंच है जो फिल्म निर्माण सीखना चाहते हैं।"

उन्होंने कहा, ''इस प्रारूप की फिल्में बनाना बेहद चुनौतीपूर्ण है। यह एक नया प्रारूप है जहां आपको सब शून्य से सीखना पड़ता है, चाहे वह पटकथा हो, अभिनय हो या छायांकन।"

Lupt Movie Review: पर्दे पर दर्शकों को डराने में कितनी सफल होगी फिल्म, पढ़े रिव्यू

वर्कफ्रंट की बात करें तो सुजॉय घोष की आने वाली फिल्म बदला हैं। जो साल 2019 में रिलीज होगी। इस फिल्म में एक बार फिर अमिताभ बच्चन और तापसी पन्नू स्क्रीन साझा करते हुए नजर आएंगे।

नोट - कुछ अंश एजेंसी से लिए गए हैं।

‘महिलाओं पर केंद्रित फिल्म’ शब्द का तब तक इस्तेमाल होगा जब तक ऐसी फिल्में आम न हो जाएं: ऋचा चड्ढा

सत्यजीत रे की फिल्म 'पथेर पांचाली' बीबीसी की 100 सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्मों की सूची में हुई शामिल

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.