Death Anniversary : प्रेम नाथ ने नायक के रूप में फिल्म इंडस्ट्री पर राज करने के बावजूद खलनायकी को दिया नया आयाम

Samachar Jagat | Saturday, 03 Nov 2018 12:30:40 PM
prem nath Death Anniversary

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

मुंबई। बॉलीवुड में प्रेम नाथ को एक ऐसे अभिनेता के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने नायक के रूप में फिल्म इंडस्ट्री पर राज करने के बावजूद खलनायकी को नया आयाम देकर दर्शकों के दिलों पर अपनी अमिट छाप छोड़ी। 1950 के दशक में प्रेम नाथ ने कई फिल्मों में नायक की भूमिका निभाई और इनमें कई हिट भी रहीं लेकिन उन्हें नायिकाओं के पीछे पेड़ों के इर्द-गिर्द चक्कर लगाते हुए गाना रास नहीं आया और उन्होंने नायक की भूमिका निभाने की तमाम पेशकशों को ठुकराते हुए खलनायक की भूमिकाएं निभाने को तरजीह दी ।


पेशावर में 21 नवंबर 1926 को जन्मे प्रेम नाथ को बचपन के दिनों से ही अभिनय का शौक था। देश के बंटवारे के समक्ष उनका परिवार पेशावर से मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर में आ गया। पचास के दशक में उन्होंने अपने सपनों को साकार करने के लिए मुंबई का रुख किया और पृथ्वी राज कपूर के पृथ्वी थियेटर में अभिनय करने लगे । वर्ष 1948 में उन्होंने फिल्म अजित से अपने फिल्मी जीवन की शुरूआत की लेकिन इस फिल्म से दर्शकों के बीच वह अपनी पहचान नहीं बना सके। वर्ष 1948 में राजकपूर की फिल्म आग और 1949 में बरसात की सफलता के बाद प्रेमनाथ कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में सफल हो गए। 

वर्ष 1953 में फिल्म औरत के निर्माण के दौरान प्रेम नाथ का झुकाव अभिनेत्री बीना राय की ओर हो गया और बाद में उन्होंने उनके साथ शादी कर ली। इसके बाद उन्होंने बीना राय के साथ मिलकर फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रख दिया और पी.एन. फिलम्स बैनर की स्थापना की। इस बैनर के तले उन्होंने शगूफा, प्रिजनर ऑफ गोलकुंडा, समुंदर और वतन जैसी फिल्मों का निर्माण किया लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म बॉक्स आफिस पर सफल नहीं हुई जिससे उन्हें आर्थिक क्षति हुई। इसके बाद प्रेमनाथ ने फिल्म निर्माण से तौबा कर ली और अपना ध्यान अभिनय की ओर लगाना शुरू कर दिया ।

इस बीच प्रेमनाथ ने कुछ फिल्मों में अभिनय किया और उनकी फिल्में सफल भी हुईं लेकिन उन्हें ऐसा महसूस हुआ कि मुख्य अभिनेता की बजाए खलनायक के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में उनका भविष्य अधिक सुरक्षित रहेगा। इसके बाद प्रेम नाथ ने खलनायक की भूमिकाएं निभानी शुरु कर दीं। प्रेमनाथ के पसंद के किरदारों की बात करें तो उन्होंने सबसे पहले अपना मनपसंद और कभी नहीं भुलाया जा सकने वाला किरदार 1970 में प्रदर्शित फिल्म जॉनी मेरा नाम में निभाया जो दर्शकों को काफी पसंद आया। 

वर्ष 1975 में प्रदर्शित फिल्म धर्मात्मा में प्रेम नाथ के अभिनय का नया रूप दर्शकों को देखने को मिला। हॉलीवुड फिल्म गॉडफादर से प्रेरित इस फिल्म में प्रेम नाथ ने अंडरवर्ल्ड डॉन के अपने किरदार धरमदास धर्मात्मा को रूपहले पर्दे पर जीवंत कर दिया। बाद में इसी फिल्म से प्रेरणा लेकर अंडरवर्ल्ड पर कई अन्य​ फिल्में भी बनाई गईं।

अपने अभिनय में आई एकरूपता से बचने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप में स्थापित करने के लिए उन्होंने अपनी भूमिकाओं में परिवर्तन भी किया। इस क्रम में 1970 में प्रदर्शित राजकपूर की सुपरहिट फिल्म बॉबी में उन्होंने फिल्म अभिनेत्री डिपल कपाड़िया के पिता की भूमिका निभाई। इस फिल्म में दमदार अभिनय के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के फिल्म फेयर अवार्ड के लिए नामांकित किया गया। अस्सी के दशक में स्वास्थ्य खराब रहने के कारण प्रेम नाथ ने फिल्मों में काम करना कुछ कम कर दिया। 

वर्ष 1985 में प्रदर्शित फिल्म हमदोनों उनके सिने करियर की आखिरी फिल्म थी। निर्देशक के साथ उनकी जोड़ी मशहूर निर्माता निर्देशक सुभाष घई, राजकपूर, देवानंद और मनोज कुमार के साथ काफी सराही गई। हिंदी फिल्मों के अलावा प्रेम नाथ ने अमरीकी टेलीविजन के सीरियल माया में एक छोटी सी भूमिका निभाई। इसके अलावा अमेरिकी फिल्म कीनर में भी उन्होंने अभिनय किया। करीब तीन दशक तक अपने दमदार अभिनय से दर्शकों के दिल में अपनी खास पहचान बनाने वाले प्रेम नाथ 03 नवंबर 1992 को इस दुनिया को अलविदा कह गए । -एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.