अमिताभ बच्चन के नाम पर बना है देश का ये सरकारी स्कूल लेकिन नहीं मनाया जाता उनका जन्मदिन

Samachar Jagat | Thursday, 11 Oct 2018 03:02:51 PM
These government schools are built on the name of Amitabh Bachchan but not celebrated his birthday

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इटावा। भारतीय फिल्म जगत की बात जिस महानायक के जिक्र के बिना अधूरी है उसी महानायक अमिताभ बच्चन से जुड़े उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में स्थित एक सरकारी स्कूल का जिक्र करना बेहद जरूरी है, जो बना तो अमिताभ के नाम पर है लेकिन यहां उनका जन्मदिन नहीं मनाया जाता, यही वजह है कि इस स्कूल के बच्चे भी इस बात से अंजान हैं कि गुरूवार को उसी फिल्मी सितारे का जन्म दिन है जिसके नाम पर उनका स्कूल बना है।


यह स्कूल कहीं और नहीं बल्कि अमिताभ बच्चन के करीबी माने जाने वाले मुलायम सिंह यादव के गांव सैफई में बना है। इस स्कूल का नाम अमिताभ बच्चन राजकीय इंटर कॉलेज है लेकिन 11 अक्टूबर 1942 को इलाहाबाद में जन्में अमिताभ की केवल एक तस्वीर ही स्कूल में लगी है। उनसे जुड़ा कोई दस्तावेज यहां नही है। स्कूल के छात्रों के साथ साथ शिक्षक और अन्य स्टाफ का कहना है कि जब अमिताभ बच्चन का नाम सरकारी स्कूल मे जोड़ ही दिया गया था तो उनके जुडे संस्मरणो का साहित्य स्कूल मे रखवा देना चाहिये था, ताकि स्कूल मे नाम के साथ साथ अमिताभ के बारे में स्कूल छात्र बेहतर ढंग से जान और समझ सके।

इस स्कूल का निर्माण इटावा जिले के सैफई में मुलायम सिंह यादव के पहले मुख्यमंत्रित्वकाल 1990 में कराया गया था बाद में खुद मुलायम सिंह यादव ने ही स्कूल के नाम के आगे अमिताभ बच्चन जुड़वा दिया था। उत्तर प्रदेश मे जब राष्ट्रपति शासन लगा हुआ था उसी समय 27 फरवरी 1997 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल रोमेश भंडारी ने सैफई मे अभिताभ बच्चन इंटर कालेज के मुख्य गेट का उदघाटन किया था। इस मौके पर खुद महानायक अभिताभ बच्चन,उनकी पत्नी जया बच्चन और रक्षा मंत्री मुलायम भसह यादव समेत कई दिग्गज मौजूद रहे। 

स्कूल के छात्रों के साथ साथ स्कूल के अध्यापक अमिताभ का जन्मदिन स्कूल में न मनाये जाने से नाखुश है। स्कूल के छात्र प्रशांत का कहना है कि महानायक अमिताभ बच्चन इस मुकाम पर आ चुके है कि वह भारत रत्न के असल हकदार हैं, उनके जन्मदिन पर उनको हम इसी तरह से बधाई देने की बात कह सकते है। ऐसा नही है कि सिर्फ प्रशांत की ही चाहत है कि अमिताभ को भारत रत्न मिले स्कूल के कई और छात्र भी अमिताभ बच्चन को भारत रत्न दिये जाने की वकालत करते है। अमिताभ बच्चन इंटर कालेज के प्रधानाचार्य अमरनाथ दीक्षित का कहना है कि स्कूल मे 213 छात्र है। चार शिक्षक है। विज्ञान,कला,व्यवासियक और वाणिज्यक वर्ग का संचालन होता है।

उनको इस बात का दु:ख है कि उनके स्कूल का नाम तो अमिताभ बच्चन के नाम पर जरूर रखा गया है लेकिन स्कूल मे ना तो सरकारी या फिर गैर सरकारी स्तर पर उनका जन्म दिन मनाया जाता है। ऐसे मे सिर्फ स्कूल का नाम ही अमिताभ बच्चन के नाम पर से होने से काम नही चलने वाला है। कालेज के दूसरे शिक्षक हरीमोहन का कहना है कि इस स्कूल मे अमिताभ बच्चन के नाम पर साहित्य रखा जाये और उनकी एक लाइब्रेरी बनाई जाये ताकि स्कूल के बच्चे अमिताभ बच्चन को सिर्फ नाम से ना जाने बल्कि उनके बारे मे बारीकी से जान सके और अमिताभ बच्चन से कुछ सीख ले सके। 

दूसरी ओर इटावा के जिला विधालय निरीक्षक राजू राणा का कहना है कि 1990 मे सैफई मे राजकीय इंटर कालेज की स्थापना की गई और 12 दिसंबर 1994 को इस राजकीय इंटर कालेज का नामकरण अमिताभ बच्चन के नाम पर कर दिया गया है लेकिन स्कूल मे उनका जन्म दिन मनाये जाने के बारे मे कोई सरकारी आदेश जारी नही है ऐसे मे जन्म दिन मनाये जाने का सवाल ही नही उठता है अगर शासन से ऐसा कोई आदेश आता है तो जन्मदिन मनाये जाने की प्रकिया शुरू कर दी जायेगी। जहॉ तक कालेज के शिक्षक और छात्रो की ओर से जन्म दिन ना मनाये जाने पर नाखुशी का सवाल है तो कोई भी व्यक्ति अपने विचार प्रकट करने के लिये पूरी तरह से स्वतंत्र है उसे रोका नही जा सकता है।

मुलायम सिंह यादव कई बार कह चुके है कि सैफई में अमिताभ बच्चन के नाम पर जो इंटर कालेज है, उसको उच्चीकृत करना चाहिए। सैफई में अमिताभ बच्चन चार बार आ चुके हैं। हम चाहते हैं कि निकट भविष्य में अमिताभ बच्चन फिर सैफई आएं। ऐसा नही है कि अमिताभ बच्चन इटावा नही आये अमिताभ बच्चन और जया बच्चन कई बार सैफई आ चुके है। स्कूल के नामकरण के बाद भी कई बार यहां आये। वर्ष 2005 सैफई मे उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से कन्या विद्याधन योजना के तहत अमिताभ स्कूली छात्राओ को सम्मानित करने के लिये आये थे।

आखिर बार अभिताभ बच्चन मैनपुरी के सांसद तेजप्रताप सिंह यादव के तिलक समारोह मे शामिल होने के लिए आये हुए थे। इलाहाबाद में जन्मे अमिताभ ने भारतीय सिनेमा जगत में अपने बेमिसाल अभिनय की छाप छोड़ी। अपनी पहली फिल्म सात हिन्दुस्तानी के जरिये अमिताभ ने बड़े पर्दे पर कदम रखा, लेकिन उन्हें पहली सफलता मिली प्रकाश मेहरा की फिल्म जंजीर से।

इसके बाद पर्दे पर उन्होंने एंग्रीयंग मैन को जिया जिसे दर्शकों का खूब प्यार मिला। उनकी आवाज ऐसी बुलंद मानी जाती है जो किसी भी कार्यक्रम को हिट करने के लिए काफी समझी जाती है। अभिताभ बच्चन केबीसी के ताजा संस्करण मे भी नजर आ रहे है। 8 नंबबर को उनकी फिल्म ठग ऑफ हिंदुस्तान रिलीज होने जा रहे है जिसमे आमिर खान भी नजर आयेंगे। - एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.