2017 में भारत में कुल 21.4 लाख एचआईवी ग्रस्त लोगों में 40 प्रतिशत महिलाएं

Samachar Jagat | Saturday, 15 Sep 2018 02:39:12 PM
21.4 million people infected with HIV in India in 2017

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) ने शुक्रवार को कहा कि भारत में 2017 में अनुमान के मुताबिक 21.4 लाख लोग एचआईवी से ग्रस्त थे जिनमें करीब 40 प्रतिशत महिलाएं थीं। नाको ने कहा कि 2000 के बाद से एचआईवी संकमण के सालाना नए मामलों में 60 प्रतिशत से अधिक की कमी आई है, लेकिन 2010 और 2017 के बीच गिरावट की दर 27 प्रतिशत रही। जो संक्रमण के नए मामलों में 2020 तक 75 प्रतिशत कमी लाने के लक्ष्य पर पहुंचने के लिहाज से बहुत पीछे है।

इन पत्तों में छिपा है हजारों बीमारियों का इलाज, आप भी कर सकते हैं ट्राई

एचआईवी आकलन 2017 की रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल एचआईवी के करीब 87580 नए मामले दर्ज किए गए और 69110 लोगों की एड्स की वजह से मृत्यु हो गई। पांच राज्यों को छोड़कर राष्ट्रीय स्तर पर नए संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं। इन पांच राज्यों में अरुणाचल प्रदेश, असम, मिजोरम, मेघालय और उत्तराखंड हैं। इन राज्यों में 2010 की तुलना में पिछले साल इन मामलों में बढ़ोतरी हुई। आपको बता दें कि एचआईवी पॉजीटीव लोगों को सामान्य व्यक्ति के बराबर अधिकार देने के लिए नया अधिनियम लागू किया गया है।

घर के कीचन में मौजूद ये चीज बीमारियों को दूर कर हमेशा रखेगी जवां

रकार ने एचआईवी तथा एड्स प्रभावितों व्यक्तियों को सुरक्षा प्रदान करने वाले अधिनियम को लागू करने संबंधी अधिसूचना जारी कर दी है। इस अधिनियम का उद्देश्य एचआईवी तथा एड्स का निवारण और नियंत्रण, एचआईवी तथा एड्स के शिकार लोगों के साथ भेदभाव करना निषेध है। अधिनियम के प्रावधानों के तहत एचआईवी एवं एड्स से संबंधित व्यक्तियों के साथ भेदभाव, कानूनी दायित्व को शामिल करके वर्तमान कार्यक्रम को मजबूत बनाना तथा शिकायतों और शिकायत निवारण के लिए औपचारिक व्यवस्था स्थापित करना है। - एजेंसी

एचआईवी एवं एड्स प्रभावितों को सुरक्षा देने वाला अधिनियम लागू

राष्ट्रीय पोषण अभियान के तहत एनिमिया की गति को तीन गुना कम करने का लक्ष्य : मोदी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.