2023 तक चीन को पीछे छोड़ डायबिटीज के सबसे ज्यादा रोगियों वाला देश बन जाएगा भारत

Samachar Jagat | Saturday, 20 Oct 2018 11:40:33 AM
India will be behind China by 2023, becoming the country with the largest number of diabetes patients.

अहमदाबाद। जाने माने मधुमेह विशेषज्ञ पद्मश्री डाक्टर वी मोहन, जो देश भर में इस बीमारी के आंकड़ों पर पिछले पांच वर्ष से जारी एक विस्तृत अध्ययन की अगुवाई कर रहे हैं, ने कहा कि अगले पांच साल में यानी 2023 तक भारत चीन को न केवल आबादी में पीछे छोड़ देगा बल्कि मधुमेह के रोगियों के मामले में भी उसे पीछे छोड़ कर दुनिया में ऐसे सर्वाधिक रोगियों वाला देश अथवा दुनिया की मधुमेह-राजधानी बन जाएगा। डा. मोहन ने कहा कि भारत में फिलहाल लगभग सात करोड़ 80 लाख मधुमेह रोगी और करीब आठ करोड इस बीमारी की पूर्व अवस्था में हैं जो उचित इलाज नहीं मिलने पर दो से तीन साल में पूरी तरह से इस बीमारी के रोगी बन जायेंगे।

उन्होंने कहा कि शारीरिक श्रम रहित जीवनशैली, बढ़ता तनाव और खान पान की गलत आदतें इसके लिए सबसे अधिक जिम्मेदार हैं। एक और चौंकाऊ तथ्य यह सामने आया है कि पहले केवल अमीरों का रोग कहा जाने वाला मधुमेह अब शहरों में गरीब और मध्यमवर्गीय तबकों के लोगों को अधिक हो रहा है जबकि शहरी अमीर बेहतर जीवनशैली और जागरूकता के कारण इससे बच पा रहे हैं। उन्होंने मधुमेह के 40 उप-प्रकारों की चर्चा करते हुए कहा कि हर व्यक्ति के स्वास्थ्य और बीमारी को ध्यान में रखते हुए अलग तरीके से इलाज होना चाहिए। उन्होंने इस बात पर भी चिंता जतायी कि नियमित इंसुलिन समेत मधुमेह के कुछ नियमित और सस्ती दवाएं भी देश के हर हिस्से में उपलब्ध नहीं हैं।

ऐसा जल्द से जल्द किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि बेंगलुरू की एक दवा कंपनी मुंह से लिए जाने वाले इंसुलिन पर प्रयोग कर रही है और अगर यह सफल हुई तो भारत ऐसा इंसुलिन देने वाला पहला देश बन जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि मधुमेह के इलाज के लिए स्टेम सेल संबंधी प्रयोग भी हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि मधुमेह पर रोक के लिए नियमित व्यायाम, योग-ध्यान और उचित तरीके से खान पान के बारे में जागरूकता बहुत जरूरी है। डा. मोहन ने कहा कि केवल एचबीए1सी जांच मधुमेह का पता लगाने के लिए नाकाफी है हालांकि एक बार बीमारी का पता चल जाने के बाद यह इस पर नजर रखने के लिए एक बेहतर तरीका है। उन्होंने जांच के लिए ग्लूकोज टौलरेंस टेस्ट को बेहतर बताया। -एजेंसी 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
रिलेटेड न्यूज़
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.