जानिए कैसे? मेडिटेशन सिर्फ अध्‍यात्‍म से ही नहीं, विज्ञान से भी जुड़ा है....

Samachar Jagat | Wednesday, 14 Jun 2017 04:27:09 PM
Know how Meditation is not only related to spirituality but also to science

नई दिल्ली। मेडिटेशन एकाग्रता के बारे मे नही है, वास्तविकता में यह एकाग्रता से विमुख होने की प्रक्रिया है। यह किसी वस्तु पर अपने विचारों का केन्द्रीकरण नहीं है अपितु यह विचार रहित होने की प्रक्रिया है। हमारी अंतरात्मा के लिए कहा जाता है कि यह ईश्वर का अंश है। 

मसल्स का दर्द संकेत हो सकता है किसी गंभीर बीमारी का!

अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनें क्योंकि हमारी अंतरात्मा हमेशा हर परिस्थिति में सही होती है।  हम जब कभी भी कुछ बुरा कर रहे होते है तो हमें कुछ अजीब सा लगता है मानो कोई हमें यह कह रहा हो कि वह बुरा काम मत करो। यह हमारी अंतरात्मा होती है जो हमें कुछ बुरा करने या किसी को दुःख पहुंचाने से रोकती है। अपनी अंतरात्मा से जुड़ने के लिए लोग मेडिटेशन करते है। मेडिटेशन यानी ध्‍यान न सिर्फ अध्‍यात्‍म से जुड़ा है बल्कि ये विज्ञान से भी जुड़ा है। ये मन को शांत ही नहीं,बल्कि केंद्रित करने में सहायता करता है।  

इसके नियमित अभ्‍यास से शरीर को फायदा होता है, यह बात विज्ञान ने भी स्‍वीकार किया है और वैज्ञानिक शोधों के जरिये इन बातों की पुष्टि हुई है कि नियमित मेडिटेशन करने से दिमाग स्‍वस्‍थ होता है और याद्दाश्‍त बढ़ती है। साथ ही यह शरीर को स्थिर कर मजबूत बनाता है। तो अब न केवल अध्‍यात्मिक कारणों से बल्कि वैज्ञानिक कारणों से भी मेडिटेशन को अपनी दिनचर्या में आप जरूर शामिल करें।

मेडिटेशन का तरीका 
ध्‍यान करने के लिए मन और मस्तिष्‍क की गति को समझना बहुत जरूरी होता है। गति यानि हम  ‍विचार करते रहना या कल्पना करना आदि।  इसे रोकने के लिए आंखें बंद करके आने वाले विचार को तुरंत सोचना बंद दे। लेकिन ध्‍यान रहें इसके लिए आपको जबरदस्‍ती नहीं, सहज योग अपनाना है।

सांसों की दुर्गन्ध की है समस्या, तो इन बातों पर दे ध्यान

दूसरा आप आंखे बंद करके शांत बैठ जाये। अब बारी-बारी से अपने शरीर के पैर से लेकर अंगूठे तक का अवलोकन करे। इस दौरान महसूस करते जाये की आप जिस-जिस अंग का अवलोकन कर रहे है। वह अंग धीरे धीरे स्वस्थ और सुन्दर होता जा रहा है। इसी तरह शरीर और मन को ध्यान करने के लिए तैयार करे।

ध्यान के लाभ
ध्यान से हमारी एकाग्रता बढ़ेगी और साथ ही मन शांत हो जायेगा। तनाव से सम्बंधित शरीर में कम दर्द होता है| तनाव जनित सिरदर्द, घाव, अनिद्रा, मांशपेशियों एवं जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है | ध्यान मस्तिस्क के आतंरिक रूप को स्वच्छ व पोषण प्रदान करता है| जिससे व्यग्रता का कम होना,भावनात्मक स्थिरता में सुधार होगा और रचनात्मकता में वृद्धि होगी। 

ध्यान के आध्यात्मिक लाभ भी है, ध्यान की अवस्था में आप प्रसन्नता, शांति व अनंत के विस्तार में होते हैं और यही गुण पर्यावरण को प्रदान करते हैं, इस प्रकार आप सृष्टी से सामंजस्य में स्थापित हो जाते हैं। ध्यान आप में सत्यतापूर्वक वैयक्तिक परिवर्तन ला सकता है। साथ ही आपमें आत्मविश्वास बढ़ेगा, अधिक केन्द्रित व स्पष्ट मन होगा। 

sourse google 

रोजों में ऐसे रखें अपनी सेहत का ध्यान

स्मार्ट स्नैक्स : स्वाद के साथ पौष्टिकता भी

रोजाना खाएं काजू और पाएं ये फायदे

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
रिलेटेड न्यूज़
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.