आईये जानते है नाभि खिसकने के कारण और उपाय

Samachar Jagat | Tuesday, 05 Dec 2017 08:46:27 AM
Lets know the causes of the navel slipping

हेल्थ डेस्क। साइंस कितना भी आगे क्यों ना बढ़ जाए, कुछ रोगों का इलाज प्राकृतिक रूप से ही किया जा सकता है। या फिर आप यूं कह सकते हैं कि यदि डॉक्टर कोशिश भी करते हैं, तो ऐसे रोगों का इलाज उस गति से नहीं कर पाते, जितनी तेजी से ये प्राकृतिक एवं प्राचीन समय से चले आ रहे उपायों द्वारा किए जाते हैं। ऐसा ही एक रोग नाभि का खिसकना होता है। आईये जानते है इस बीमारी के बारे में.....

सर्दियों में होने वाले इंफेक्शन को कम करने के लिए करें ये उपाय

नाभि खिसकने के कारण
• गलत लाइफस्टाइल, भूख न लगना, एक्सरसाइज न करना और पूरी नींद न लेने के कारण धरण पड़ने की समस्या हो सकती है।
• कोई भारी काम करते समय या खेल-कूद के कारण भी नाभि खिसक सकती है।
• अचानक एक पैर पर भार पड़ने, सीढ़िया उतरते समय और दाएं बाय झुकने से भी धरण पड़ जाती है।
• एक बार यह समस्या होने पर इसके बाद यह बार-बार हो सकती है।

योग पर किसी का पेटेंट नहीं इसलिए पूरी दुनिया को फायदा-प्रभु

 लक्षण
• पेट में धरण पड़ने से तेज दर्द और दस्त की समस्या हो जाती है।
• रोगी को पीठ के बल लेटाकर उसकी नाभि को दबाएं। अगर नाभि के नीचे धड़कन महसूस न हो तो वो अपनी जगह पर नहीं है।
• नाभि खिसकने पर रोगी को अपच और कब्ज की समस्या हो जाती है।

जानिए, किस मूड के लिए कौन सी चाय पीना है परफेक्ट

उपाय 

सरसों का तेल
3-4 दिन तक लगातार सुबह खाली पेट सरसों के तेल की कुछ बूदें नाभि में डालें। इससे नाभि धीरे-धीरे अपनी जगहें पर आनी शुरू हो जाएगी।

 सौंफ
10 ग्राम सौंफ को पीसकर उसमें 50 ग्राम गुड़ मिलाकर सुबह खाली पेट खाएं। 2-3 दिन इसका सेवन करने से नाभि अपनी जगहें पर आ जाएगी।

अध्ययन: नाश्ता नहीं करने से बढ़ सकता है वजन

आंवला
सूखें आंवले को पीसकर उसमें नींबू का रस मिलाकर नाभि के चारों तरफ बांधकर रोगी को 2 घंटा जमीन पर लेटा दें। दिन में 2 बार ऐसा करने से नाभि अपनी जगहें पर आ जाएगी।

सेहत के लिए कई प्रकार से फायदेमंद है खुबानी

आसन
नाभि को उसकी जगहें पर लाने के लिए आप पेट के आसन भी कर सकते है। इससे धरण जल्दी ठीक हो जाती है।

sourse google 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.