झुंझुनूं में बढ़ रही हैं बच्चों में नाटेपन की बीमारी

Samachar Jagat | Saturday, 15 Sep 2018 12:49:26 PM
Myopathy disease in children is increasing in Jhunjhunun

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

झुंझुनू। राजस्थान के झुंझुंनू जिले में बच्चों में बौनेपन (नाटेपन ) की बीमारी लगातार बढती जा रही है। यह खुलासा नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में हुआ। इसी के चलते झुंझुंनू में राष्ट्रीय पोषण मिशन के लिए जागरूकता अभियान शुरू कर दिया है। सर्वे के अनुसार जिले में जन्म लेने वाले पांच साल तक के बच्चों में हरेक 100 बच्चों में से 33 बच्चे नाटेपन के शिकार हैं। ग्रामीण इलाकों में यह आंकड़ा करीब 33.72 फीसदी है। सर्वे में जिले में 32.63 फीसदी बच्चों में बौनापन पाया गया है।

गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकते हैं पर्यावरणीय प्रदूषक : अध्ययन

सर्वे में यह भी खुलासा हुआ कि जिले के 13.62 फीसदी बच्चे दुबले होते हैं। इनमें गांवों में रहने वाले बच्चे शहरी बच्चों की तुलना में अधिक दुबले होते है। मिशन के सर्वे में ग्रामीण परिवेश के 12.46 फीसदी बच्चे ही दुबलेपन का शिकार पाए गए हैं। जिले में बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए राष्ट्रीय पोषण मिशन के तहत तीन स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

आईआईटी दिल्ली के छात्रों ने सर्पदंश की किफायती दवा विकसित की

इसमें जिला, ब्लॉक एवं ग्राम स्तर पर कार्यक्रम होगे। इसके लिए विभाग की ओर से उपनिदेशक एवं बाल विकास परियोजना अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की गई है। इसके अलावा इस महीने के लिए विशेषज्ञ नुक्कड़ नाटक, वीडियो फिल्म व पौष्टिक भोजन आदि को लेकर जानकारी देंगे। युवा शक्ति रैलियों का आयोजन भी होगा। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में पाए गए इन नतीजों के बाद  सरकार ने राष्ट्रीय पोषण मिशन के लिए जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। सरकार के इस अभियान के तहत पूरे सितम्बर महीने में महिला व बाल विकास विभाग को जिले में जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन करना होगा, जिसमें लोगों को बच्चों के पोषण से जुड़ी जानकारी दी जायेगी। - एजेंसी

अदरक में मौजूद ये औषधीय गुणों से दूर होती है कई बीमारियां

 

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.