नाइट शिफ्ट में काम करने से बढ़ सकता है हृदयरोग और कैंसर का खतरा

Samachar Jagat | Tuesday, 10 Jul 2018 04:06:57 PM
Working in the night shift can increase the risk of heart disease and cancer

वॉशिंगटन। एक रिसर्च में पता चला है कि डे नाइट शिफ्ट में काम करने वाले लोगों में कैंसर और हृदयरोग का खतरा अधिक होता है । जबकि डे शिफ्ट में काम करने वाले लोगों में इन बीमारियों का खतरा कम होता है। वैज्ञानिकों ने रिसर्च में पाया कि नाइट शिफ्ट में काम करने वाले व्यक्तियों में मोटापा भी बढ़ने लगता है।

इन फलों के सेवन से शरीर में कभी नहीं होगी पानी की कमी

वैज्ञानिकों ने पाया है कि रात्रि पारी में काम करने से मोटापा और मधुमेह का जोखिम बढ़ जाता है जिससे आगे चलकर हृदयरोग , मस्तिष्काघात और कैंसर का खतरा भी बढ़ सकता है। वॉशिगटन स्टेट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने यह अनुसंधान किया है । अनुसंधानकर्ताओं में से एक भारतीय मूल का है।

अधिक समय तक नींद लेने से इन खतरनाक बीमारियों के हो सकते है शिकार

उन्होंने उस मान्यता को नकार दिया है जिसके मुताबिक शरीर के दिन और रात के चक्र को मस्तिष्क की मास्टर क्लॉक संचालित करती है । इन वैज्ञानिकों का कहना है कि यकृत , आहार नली तथा अग्नयाशय की अलग - अलग जैविक घड़ी होती है।विश्वविद्यालय के हांस वान डोनजेन ने बताया , '' यह किसी को पता नहीं था कि पाचन क्रिया करने वाले अंगों में जैविक घड़ी शिफ्ट में काम करने से कितनी तेजी और कितनी अधिक बदल जाती है।

महिला और पुरुषों में मस्तिष्क कैंसर के आनुवांशिक जोखिम कारक अलग-अलग

बल्कि मस्तिष्क की मास्टर क्लॉक भी इनके अनुरूप मुश्किल से ही हो पाती है । ’’ उन्होंने कहा, '' इसके परिणामस्वरूप शिफ्ट में काम करने वाले लेागों के शरीर के कुछ जैविक संकेत कहते हैं कि यह दिन है जबकि कुछ संकेत कहते हैं कि यह रात है , इस तरह चयापचय में गड़बड़ी हो जाती है। ’’ एजेंसी

बचपन में मोटापा होने से युवावस्था में बढ़ जाता है मधुमेह, कार्डियोवास्कुलर जैसी बीमारियों का खतरा



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.