थाईलैंड नाव दुर्घटना में मृतकों की संख्या 44 तक पहुंची

Samachar Jagat | Tuesday, 10 Jul 2018 06:38:53 PM
44 killed in Thailand boat crash

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

बैंकॉक। थाईलैंड के फकेट द्वीप के पास पिछले सप्ताह हुई नाव दुर्घटना में मंगलवार को अंडमान सागर से बचाव कार्यकताओं ने तीन और शव बाहर निकाले।

अधिकारियों और मृतकों के रिश्तेदारों ने नाव दुर्घटना में मारे गए 40 से ज्यादा लोगों की पहचान कर ली है। फोनिक्स पर्यटक नाव में गुरुवार को 89 पर्यटकों समेत 101 लोग सवार होकर छोटे से द्वीप में पहुंचने के लिए सागर में उतरे जिनमें से दो पर्यटक चीन के भी शामिल थे।

जापान: मूसलाधार बारिश का कहर, बाढ़ में 112 लोगों की मौत

नाव में 12 थाई क्रू सदस्य भी थे।  नौसेना कमांडर ने बताया कि थाईलैंड के पश्चिमी तट के पास प्रसिद्ध होलीडे द्वीप फुकेट के पास से तीन और शवों को बाहर निकाला गया। एक शव फीफी द्वीप के मिला।

अधिकारियों ने मंगलवार को 40 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। इसे अब तक की सबसे भीषण दुर्घटना माना जा रहा है और इसके लिए सुरक्षा मानकों का पालन न करना माना जा रहा है।

चीन करेगा भारतीय कैंसर की दवाओं में सीमाशुल्क कटौती 

कमांडर ने कहा कि नाव दुर्घटना में 54 लोग बचा लिए गए हैं और यदि मौसम ने साथ दिया तो लापता लोगों की तलाश जारी रहेगी। उन्होंने बताया समुद्री हवाएं तेजी से चल रही हैं और डूबी हुई नाव को बाहर निकालने का काम अभी रुका हुआ है।

उप प्रधानमंत्री पराविट वांगसुवान ने सोमवार को दिए अपने बयान के लिए माफी मांगी है। इसमें उन्होंने नाव दुर्घटना में मारे गए लोगों के लिए चीनी टूर ऑपरेटर को दोषी माना था।

बयान में कहा गया था कि ऑपरेटर ने थाई सुरक्षा मानकों को नहीं माना था। रक्षा मंत्री प्रवक्ता कोंगचीप तंत्रावनिच ने बताया कि पराविट ने शोक संदेश और चीनी लोगों से अपने दिए गए बयान के माफी मांगी है। गुरुवार को इसी इलाके में दो अन्य नावें भी डूबी थी लेकिन उसके यात्रियों को समुद्र से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया था। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.