हांगकांग की आजादी के समर्थक एडवर्ड लेयुंग को छह साल की जेल 

Samachar Jagat | Monday, 11 Jun 2018 11:42:29 AM
Hong Kong freedom fighter Edward Leung is sentenced to six years in prison

हांगकांग। हांगकांग ने आजादी के समर्थक एक शीर्ष नेता को दो साल पहले शहर में हुए हिंसक विरोध-प्रदर्शन में शामिल पाए जाने के चलते सोमवार को छह साल की कारावास की सजा सुनाई है। गत कई दशक में यह सबसे भयावह हिंसक प्रदर्शन था। इस साल मई में आजादी समथर्क नेता एडवर्ड लेयुंग को वर्ष 2016 में पुलिस के साथ संघर्ष करने और विरोध-प्रदर्शन करने का दोषी माना गया था।

ट्रंप ने जी-7 के बाद ट्वीट कर यूरोप के साथ विश्वसनीय संबंध को तार-तार कर दिया :जर्मनी

इस प्रदर्शन में प्रदशर्नकारियों ने मोंग कोक जिले में पुलिस पर ईंटे फेंकी थी, और आगजनी की थी।  न्यायाधीश एंथिया पांग ने लेयुंग को सोमवार को सजा सुनाते हुए कहा कि वह दंगों में सक्रिय रूप से शामिल होना पाया गया था। उन्होंने लेयुंग की गतिविधियों को क्रूर और अनैतिक बताया।  सन् 2016 की झड़पों के दौरान एक पुलिस अधिकारी से मारपीट करने के एक अन्य आरोप को जनवरी में 27 वर्षीय लेयुंग ने स्वीकार कर लिया था।

G-7 पर ट्रंप के ट्वीट को मर्केल ने बताया निराशाजनक

वह तब से ही हिरासत में हैं, उसे एक वर्ष की जेल की सजा सुनाई गई थी। उल्लेख है कि अद्र्ध स्वायत्तशासी हांगकांग में  वर्ष 1997 के बाद से दो तरह के नियम जारी हैं। 1997 में हांगकांग ब्रिटेन के उपनिवेश से आजाद होकर चीन के अधिकार में आया था। इसलिए वहां के समाज में दोनों तरह की व्यवस्थाओं को लेकर टकराव साफ देखा जा रहा है। देश बदलने के 20 साल बाद भी यहां सब कुछ एक जैसा नहीं है। यहां पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और स्वतंत्र न्यायपालिका को लेकर टकराव है।

लोकतंत्र समर्थकों को लगातार जेल भेजने के फैसले को यहां के लोगों ने स्वायत्तता के साथ छेड़छाड़ के तौर पर लिया है। हांगकांग में तकरीबन 1000 लोगों ने तानाशाही विरोधी के खिलाफ 2017 को  पैदल मार्र्च निकाला गया था। इस प्रदर्शन का लोकतंत्र के लिए अभियान चलाने वाले लोगों ने मुख्य भूमिका निभाई थी।  प्रदर्शनकारियों का कहना था कि चीन से बढ़ते दबाव के कारण  हांगकांग पर अपना अधिकार और स्वतंत्रता खत्म होने का खतरा उत्पन्न हो गया है।

जापान के तट के पास अमेरिकी लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त

अदालत की सुनवाई के बाद अभियान चलाने वालों को जेल में डालने और हांगकांग में उपद्रव निरोधी कानून लागू होने की मध्यनजर लोकतंत्र समर्थक नेताओं में चिंता का विषय बना।  कोई भी व्यक्ति कारावास की सजा नहीं भोगना चाहता, लेकिन हांगकांग में  लोकतंत्र की रक्षा के लिए अधिक लोगों को एकजुट होकर संघर्ष करना होगा।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.