इमरान खान ने व्हाइट हाउस में ट्रंप के साथ बातचीत की

Samachar Jagat | Tuesday, 23 Jul 2019 08:05:41 AM
Imran Khan talks with Trump in the White House

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को कहा कि पाकिस्तान अफगान शांति प्रक्रिया में अमेरिका की मदद कर रहा है। ट्रंप ने यह बात पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ व्हाइट हाउस में पहली बैठक के दौरान कही। 

इस्लामाबाद को उम्मीद है कि इससे तनावपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों को फिर से पटरी पर लाने में मदद मिलेगी। खान के साथ पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा, इंटर-सॢवसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद और विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी सहित अन्य व्यक्ति थे। ट्रंप ने इन सभी का व्हाइट हाउस पहुंचने पर स्वागत किया। 

ट्रंप ने कहा कि अमेरिका अफगानिस्तान से हटने के लिए पाकिस्तान के साथ काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अफगानिस्तान शांति प्रक्रिया में अमेरिका की मदद कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि अतीत में पाकिस्तान ने अमेरिका का सम्मान किया लेकिन अब वे हमारी काफी मदद कर रहे हैं।’’ 

ट्रंप प्रशासन ने अफगानिस्तान में अमेरिका के सबसे लंबे युद्ध के लिए समाधान के लिए अपने प्रयास तेज कर दिये हैं, जहाँ अमेरिका ने 2001 के अंत के बाद से 2,400 से अधिक सैनिक खोये हैं। अमेरिका ने अफगानिस्तान पर हमला 9/11 आतंकवादी हमले के बाद किया था। 

खान की यात्रा ऐसे समय में हो रही जब समझा जाता है कि अमेरिका और अफगान तालिबान के बीच वार्ता एक निर्णायक चरण में प्रवेश कर गई है। तालिबान के साथ शांति वार्ता सुगम बनाने में पाकिस्तान के प्रयासों की सराहना की गई है।

कुरैशी ने व्हाइट हाउस पहुंचने के तुरंत बाद ट्वीट किया, ‘‘पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यहाँ ‘नये पाकिस्तान‘ के अपने दृष्टिकोण को दिखाने और द्विपक्षीय संबंधों के नये युग की शुरुआत करने के लिए आए हैं। हम क्षेत्र में शांति और समृद्धि की सोच लेकर आए हैं।’’ 

अमेरिका और पाकिस्तान के बीच तनाव तब और बढ़ गया था जब ट्रंप ने अगस्त 2017 में अफगानिस्तान और दक्षिण एशिया के लिए अपनी नीति की घोषणा करते हुए ‘‘अराजक तत्वों’’ को सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने के लिए पाकिस्तान पर निशाना साधा था जो अफगानिस्तान में अमेरिकी लोगों को मारते हैं। 

बैठक के दौरान उम्मीद है कि अमेरिकी नेतृत्व खान पर पाकिस्तानी धरती से सक्रिय आतंकवादी और आतंकवादी समूहों के खिलाफ ’’निर्णायक और न पलटने वाली’’ कार्रवाई करने और तालिबान के साथ शांति वार्ता सुगम बनाने के लिए दबाव डालेगा। अक्टूबर 2015 में नवाज शरीफ अमेरिका की आधिकारिक यात्रा करने वाले आखिरी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री थे। 

ट्रम्प ओवल आफिस में आमने सामने की बैठक के अलावा व्हाइट हाउस में अमेरिका की यात्रा पर आये पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल के लिए ‘वर्किंग लंच’ की मेजबानी करेंगे। 

ट्रम्प के कार्यकाल के दौरान पाकिस्तान और अमेरिका के बीच संबंध तनावपूर्ण हुए हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति ने सार्वजनिक रूप से कहा था कि पाकिस्तान ने हमें ‘‘झूठ और छल’’ के अलावा कुछ भी नहीं दिया है और आतंकवादियों का समर्थन करने के लिए उसे दी जाने वाली रक्षा और अन्य सहायता रोक दी गई हैं। -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.