भारत ने संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध समिति की आलोचना की

Samachar Jagat | Friday, 07 Jun 2019 01:48:45 PM
India criticized the United Nations Ban Committee

संयुक्त राष्ट्र। भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति के कार्य-कलापों में पारदर्शिता की कमी की कड़ी आलोचना की है जिसने पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में एक दशक से ज्यादा का समय लगाया। भारत ने यह आलोचना अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के विश्व निकाय के कदम के एक माह बाद की।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई उप प्रतिनिधि के. नागराज नायडू ने कहा कि इन वर्षों में हम ने अनेक ऐसे निकायों को सृजित होते और उन्हें परिषद के विभिन्न प्रतिबंध कानूनों के तहत व्यक्तियों और संगठनों को सूचीबद्ध करने और सूची से हटाने जैसी अहम जिम्मेदारियां सौंपे जाते देखा है।

नायडू ने बृहस्पतिवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में परिषद के काम करने के तरीकों पर एक खुली चर्चा को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि इन सहायक निकायों के काम करने के तरीके न सिर्फ विविध और विशिष्ट रहे हैं, बल्कि उन्हें पुराने पड़ चुके तरीकों पर भी चलाया जाता रहा है जिनका चार्टर या परिषद के प्रस्तावों में कोई कानूनी आधार नहीं है।

उन्होंने कहा कि यह समितियां पारदर्शिता के नियमों से इतर अपना काम करती हैं और संयुक्त राष्ट्र सदस्यता को व्यापकतर करने या उनके विभिन्न फैसलों से अंतरराष्ट्रीय समुदाय को अवगत कराने की बमुश्किल कोई कोशिश की जाती है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.