शरीफ परिवार की दोषसिद्धि के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से न्यायाधीश ने खुद को अलग किया

Samachar Jagat | Wednesday, 08 Aug 2018 06:31:26 PM
Judge separates himself from hearing petition against conviction of Sharif family

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

लाहौर। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, उनकी पुत्री और दामाद के एवनफील्ड संपत्ति भ्रष्टाचार मामले में दोषसिद्धि के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई से एक पाकिस्तानी न्यायाधीश ने खुद को अलग कर लिया है।

जियो टीवी की खबर के अनुसार लाहौर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश द्वारा 4 अगस्त को याचिका पर सुनवाई के लिए गठित 3 सदस्यीय पीठ की अध्यक्षता कर रहे न्यायमूर्ति शम्स महमूद मिर्जा ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए खुद को मामले से अलग कर लिया।

दिल्ली सरकार ने हाईकोर्ट से कहा, ई-सिगरेट को प्रतिबंधित करने के लिए कदम उठाए गए 

न्यायमूर्ति साजिद महमूद सेठी और न्यायमूॢत मुजाहिद मुस्तकीम पीठ में शामिल दो अन्य न्यायाधीश हैं। याचिका पर सुनवाई के लिये गठित पीठ से अलग होने के बाद न्यायमूर्ति मिर्जा ने इस मामले को लाहौर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को संदर्भित कर दिया है। शरीफ, मरियम और कैप्टन (सेवानिवृत्त) सफदर को लंदन में 4 फ्लैटों की खरीद के विवरण का खुलासा नहीं करने पर 6 जुलाई को दोषी ठहराया गया था। 

पाक ने शरीफ के बेटों को काली सूची में डाला, पासपोर्ट पर रोक लगाई
इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बेटों हसन और हुसैन के नाम देश के अधिकारियों ने काली सूची में डाले दिए हैं जिससे उनके पाकिस्तानी पासपोर्ट पर यात्रा करने पर रोक लग गई है।

एक कोर्ट ने लंदन में रहने वाले शरीफ के बेटों को भगोड़ा घोषित किया था क्योंकि वे जुलाई 2017 में उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद उनके पिता तथा उनके खिलाफ दर्ज भ्रष्टाचार के तीन में से किसी भी मामले में पेश नहीं हुए थे।

नए शिखर पर शेयर बाजार, ऊर्जा और बैंकिंग में लिवाली की वजह से मिली बढ़त

‘जियो न्यूज’ ने खबर दी कि भ्रष्टाचार रोधी संस्था राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने हसन और हुसैन के नामों को निकास नियंत्रण सूची में डालने का अनुरोध किया और कार्यवाहक कैबिनेट ने फिलहाल इस पर कोई फैसला नहीं किया है।

खबर में कहा गया कि एनएबी ने आव्रजन और पासपोर्ट निदेशालय से भी आग्रह किया जिसके बाद उनके पासपोर्ट पर रोक लगा दी गई और उनके नाम काली सूची में डाल दिए गए। गत सप्ताह संघीय जांच एजेंसी ने इंटरपोल से हसन और हुसैन के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी करने की मांग की थी।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.