इमरान को अयोग्य ठहराने के मामले में न्यायाधीश ने सुनवाई से खुद को किया अलग

Samachar Jagat | Monday, 11 Mar 2019 05:12:47 PM
matter of disqualification of Imran

लाहौर। गत वर्ष आम चुनावों के दौरान ईमानदार और नेक नहीं होने का आरोप लगाते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अयोग्य ठहराने के लिए दायर दूसरी याचिका पर सुनवाई सोमवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई।

एक न्यायाधीश ने निजी कारणों का हवाला देते हुए खुद को सुनवाई से अलग कर लिया, जिसके बाद सुनवाई स्थगित कर दी गई। खान (66) के खिलाफ दूसरी याचिका लाहौर उच्च न्यायालय में दो याचिकाकर्ताओं ने दायर कर उन्हें प्रधानमंत्री पद के अयोग्य ठहराने की मांग की थी।

2014-18 के दौरान देश का रूस से हथियार आयात का हिस्सा 2009-13 के मुकाबले घटकर 58 फीसद रहा

याचिका में उनके ईमानदार और नेक नहीं होने के आरोप लगाते हुए कहा गया कि 2018 के चुनावों में उन्होंने अपने एक पूर्व पार्टनर की बेटी का पिता होने की बात छिपाई। इससे पहले 21 जनवरी को इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने इसी तरह की याचिका रद्द कर दी थी।

किसी भी व्यक्ति या संगठन को पाकिस्तानी धरती से आतंकवादी गतिविधियां चलाने की इजाजत नहीं होगी: खान

तब अदालत ने कहा था कि यह सुनवाई योग्य नहीं है क्योंकि यह निजी मामले से जुड़ा हुआ है। लाहौर उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति शाहिद वाहिद और न्यायमूर्ति ममून राशिद शेख की पीठ ने याचिकाओं पर सुनवाई की। डॉन अखबार ने खबर दी कि न्यायमूर्ति वाहिद ने निजी कारणों से खुद को सुनवाई से अलग कर लिया।

सुरक्षा कारणों से एनआईए की पूछताछ के लिए दिल्ली नहीं जा सकता: मीरवाइज उमर फारूक

जम्मू कश्मीर में लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ न कराने पर भड़के फारूख अब्दुल्ला



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.