लाखों लोगों को अपना दीवाना बनाने वाली मोनालिसा की मुस्कान नहीं है वास्तविक

Samachar Jagat | Thursday, 06 Jun 2019 10:29:54 AM
Monalisa smile is not real

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

लंदन। ब्रिटेन में लंदन विश्वविद्यालय के एक नए अध्ययन के अनुसार मोनालिसा की चर्चित मुस्कान अस्वाभाविक हो सकती है। इसमें यह सुझाव दिया गया है कि इतालवी विद्बान लियोनार्डो दा विची ने जानबूझकर उन्हें इस तरीके से चित्रित किया। लंदन विश्वविद्यालय में शोधकर्ता सेंट जॉर्ज ने मोनालिसा के भाव की सच्चाई को परखना शुरू किया और दुनिया की इस सर्वप्रसिद्ध पेंटिग के लिए मनोभाव के सिद्धांत का प्रयोग किया।

देश-विदेशों से कुल्लू-मनाली आने वाले पर्यटक एक जून से कर सकेंगे रोहतांग का दीदार

उन्होंने चेहरे के हाव-भाव को परखने के लिए 'किमरिक फ़ेस टेस्ट तकनीक’ का इस्तेमाल किया। इसमें तस्वीर के मुख को आधा-आधा काटकर हर आधे हिस्से को इसकी दर्पण छवि के साथ रखा जाता है। दोनों किमरिक तस्वीरों पर 42 लोगों के एक समूह ने अपने-अपने मत रखे तथा भाव के अनुसार उनकी रेटिंग की। इसमें इस बात पर सहमति जताई गई कि काटी गई तस्वीरों में से दर्पण छवि की बांयी-बांयी ओर वाली तस्वीर में खुशी झलक रही है जबकि दायीं-दायीं वाली तस्वीर में भाव की कमी है, जिसे निराभाव या एकरूप समझा जा सकता है।

भारतीयों का पसंदीदा डेस्टिनेशन बनता जा रहा है मकाओ, लगातार बढ़ रही है यहां जाने वाले पर्यटकों की संख्या

यह शोध 'कॉर्टेक्स’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। इसमें निष्कर्ष यह निकाला गया है कि मोनालिसा की मुस्कान में एकरूपता नहीं है। शोधकर्ताओं में अमेरिका के सिनसिनाटी विश्वविद्यालय के लुका मार्सिली और इटली के रोम में सैपिएंजा विश्वविद्यालय के मैटीओ बोलोग्ना शामिल हैं। -एजेंसी

चमत्कारी है इस झरने का पानी, अगर प्रेमी जोड़ा इसमें स्नान कर ले तो उन्हें कोई नहीं कर सकता एक-दूसरे से अलग



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.