दो सबसे बड़े क्षुद्रग्रहों का चक्कर लगाने वाले नासा के डॉन अंतरिक्षयान का मिशन हुआ समाप्त

Samachar Jagat | Saturday, 03 Nov 2018 10:45:58 AM
NASA's historic don mission ends

वाशिंगटन। क्षुद्रग्रहों की पट्टी में दो सबसे बड़े क्षुद्रग्रहों का चक्कर लगाने वाले नासा के डॉन अंतरिक्षयान में ईंधन समाप्त होने के बाद इसका ऐतिहासिक 11 साल पुराना मिशन समाप्त हो गया। इस मिशन ने हमारे सौरमंडल के कई रहस्यों को उजागर किया था। 46.7 करोड़ डॉलर की लागत वाला यह मिशन 2007 में शुरू किया गया था जिसका उद्देश्य क्षुद्रग्रहों वेस्टा और केयर्स का अध्ययन करना था। 

धन की देवी लक्ष्मी की सवारी उल्लू पर मंडराते संकट पर चंबल में अलर्ट

नासा ने एक बयान में बताया कि यह अंतरिक्षयान 31 अक्टूबर और एक नवंबर को नासा के डीप स्पेस नेटवर्क के साथ निर्धारित संपर्क साधने में विफल रहा। जब उड़ान दल ने संपर्क नहीं होने के अन्य संभावित कारणों को समाप्त किया तो मिशन प्रबंधकों ने कहा कि अंतरिक्ष यान में अंतत: हाइड्रोजन समाप्त हो गई है जिस ईंधन से अंतरिक्षयान संचालित होता है।

#MeToo: अब चेन्नई की रंगकर्मी ने अभिनेत्री माया एस कृष्णन पर यौन उत्पीडऩ का लगाया आरोप

नासा के यहां स्थित विज्ञान मिशन निदेशालय के सहायक प्रशासक थॉमस जुर्बुकेन ने कहा, हम अपने डॉन मिशन के समाप्त होने के मौके पर उसकी तरफ से दिलाई गईं अतुलनीय तकनीकी उपब्धियों, महत्वपूर्ण विज्ञान को याद कर रहे हैं। नासा का कहना है कि हमने डॉन पर बहुत ज्यादा काम का बोझ डाला था, लेकिन उसने सभी काम बखूबी पूरे किए। इतने अच्छे अंतरिक्ष यान को रिटायर करना आसान नहीं है। -एजेंसी

ऋचा चड्ढा का बड़ा खुलासा, इस वजह से नहीं करना चाहती थी शकीला की बायोपिक में काम

फिल्म हाउसफुल- 4 में नाना पाटेकर की जगह लेगा साउथ का ये सुपरस्टार



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.