पाकिस्तान: पंजाब में PML-N के 23 नवनिर्वाचित विधायकों ने पार्टी की बैठक में नहीं लिया हिस्सा

Samachar Jagat | Wednesday, 01 Aug 2018 07:10:17 PM
Pakistan: 23 newly elected MLA of PML-N did not take part in party meeting

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

लाहौर। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के प्रमुख शाहबाज शरीफ को बुधवार को उस समय बड़ा झटका लगा जब उनकी ओर से बुलाई गई एक बैठक में पंजाब विधानसभा में नवनिर्वाचित पार्टी के 23 विधायकों ने हिस्सा नहीं लिया। शाहबाज ने पाकिस्तान की सबसे ज्यादा आबादी वाले प्रांत पंजाब में सरकार गठन को लेकर भविष्य की रणनीति पर चर्चा के लिए यह बैठक बुलाई थी।

सिंगापुर: तोते की पीट कर हत्या के जुर्म में महिला को 4 हफ्ते की जेल

एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई। दि न्यूज की खबर में बताया गया कि शाहबाज की ओर से बुलाई गई बैठक में पंजाब से निर्वाचित पीएमएल-एन के सभी सदस्यों को अपनी मौजूदगी दर्ज कराने के निर्देश दिए गए थे। बहरहाल, पीएमएल-एन के 129 नवनिर्वाचित विधायकों में से महज 106 विधायकों ने बैठक में शिरकत की।

अखबार ने अपनी खबर में कहा कि पीएमएल-एन के कम से कम 23 विधायकों ने पार्टी अध्यक्ष शाहबाज के सख्त निर्देशों के बावजूद बैठक में हिस्सा नहीं लिया। सूत्रों के हवाले से अखबार ने कहा कि बैठक में शामिल नहीं हुए ज्यादातर सदस्यों ने दलील दी कि वे स्वास्थ्य कारणों या किसी जरूरी काम की वजह से नहीं आ सके। शाहबाज ने पार्टी के इन विधायकों की गैर-हाजिरी पर नाराजगी जाहिर की। पार्टी अध्यक्ष पंजाब में सरकार बनाने के लिए जरूरी संख्याबल जुटाने की कोशिश कर रहे हैं।

इसके लिए पीएमएल-एन निर्दलीय और छोटी पाॢटयों के विधायकों के संपर्क में है। अखबार ने कहा कि पीएमएल-एन को इन निर्दलीयों और संभावित गठबंधन विकल्पों ने कहा था कि वह पहले यह सुनिश्चित करे कि चुनाव जीतने वाले पार्टी के 129 विधायकों पर उसकी पकड़ मजबूत बनी रहे। इसलिए इस बैठक को कई लोग शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देख रहे थे।

शाहबाज की ओर से बुलाई गई बैठक शाम छह बजे शुरू होनी थी, लेकिन यह एक घंटे देर से शुरू हुई। बैठक के दौरान नाराज दिख रहे शाहबाज ने कहा कि किसी इंसान के चरित्र का इम्तिहान आसान वक्त में नहीं बल्कि बुरे वक्त में होता है। बैठक में शामिल हुए विधायकों ने मुश्किल समय में पार्टी को बिना शर्त समर्थन देने की बात कही।

उ. कोरिया से परमाणु निरस्त्रीकरण का वादा निभाने की उम्मीद: अमेरिका

वर्ष 2008 से 2018 तक पीएमएल-एन 10 करोड़ से ज्यादा की आबादी वाले पंजाब प्रांत में शासन कर चुकी है। गत दिनों संपन्न हुए प्रांतीय विधानसभा चुनावों में पार्टी को 129 जबकि इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) को 123 सीटें मिली हैं।

पीटीआई की सहयोगी पीएमएल-क्यू को 7 सीटें मिली। निर्दलीय उम्मीदवारों को 29 सीटों पर जीत मिली। कुल 297 सदस्यीय पंजाब विधानसभा में सरकार बनाने के लिए 149 सीटें चाहिए। पीटीआई ने दावा किया है कि उसे पंजाब में 180 विधायकों का समर्थन प्राप्त है और पार्टी इस प्रांत में सरकार बनाएगी।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.