म्यामां हिंसा के एक वर्ष पूरा होने पर रोहिंग्या समुदाय ने 'इंसाफ' की मांग की

Samachar Jagat | Saturday, 25 Aug 2018 02:26:59 PM
Rohingyas demanded justice on completion of one year of Myanmar violence

कोक्स बाजार (बांग्लादेश)। म्यामां में रोहिंग्या समुदाय के लोगों पर सेना की कार्रवाई को एक साल पूरा होने के मौके पर शनिवार को समुदाय ने 'इंसाफ' की मांग की है। म्यामां के रखाइन प्रांत में गत वर्ष 25 अगस्त को सेना ने रोहिंग्या मुसलमानों पर हमला किया था, जिसे संयुक्त राष्ट्र ने ''जातीय सफाया’’ करार दिया था।

सरकार ने राफेल सौदे में रक्षा खरीद प्रक्रिया को नजरअंदाज किया : चिदंबरम

सेना की इस क्रूर कार्रवाई के बाद करीब 7,00,000 लोगों ने बांग्लादेश शरणार्थी शिविरों में पनाह ली थी। आज हजारों लोगों ने शांतिपूर्ण मार्च निकाला और हमें संयुक्त राष्ट्र से इंसाफ चाहिए के नारे लगाते हुए रैलियों का हिस्सा बने। एक बड़े बैनर पर रोहिग्या नरसंहार दिवस, 25 अगस्त :फिर कभी नहीं’’ लिखा था।

महिला आरक्षण विधेयक पारित कराने में भाजपा की मदद करेगी कांग्रेस :राहुल गांधी

कुछ लोग बान्दाना पहने भी दिखे जिन पर लिखा था ''रोहिग्या को बचाएं’’ जबकि अन्य लोग हाथ में झंडे लिए दिखे। कार्यकर्ताओं ने 'एएफपी’ से कहा कि यहां अधिक मार्च और सभाएं करने की भी योजनाएं बनाई गईं थीं, जो दुनिया में शरणार्थियों का सबसे बड़ा शिविर बन चुका है।

राहुल ने 1984 के सिख विरोधी दंगों में शामिल लोगों को सजा का किया समर्थन

'मेडिसिन्स सेन्स फ्रंटियर्स’ (एमएसएफ) के अनुसार रोहिग्या लोगों ने गत वर्ष 25 अगस्त को म्यामां पुलिस चौकियों पर हमला किया था, जिसके बाद रखाइन प्रांत में यह खूनी कार्रवाई शुरू हुई। हिसा के एक महीने के भीतर ही करीब 7000 रोहिंग्या मारे गए थे।

धर्म कर्तव्य है और जो सत्ता में हैं वह ‘राजधर्म’ की बात करते हैं : आरएसएस

इसके अलावा कई रोहिंग्या लोग बांग्लोदश राहत शिविरों में सुरक्षित पनाह पाने के लिए चलकर या कमजोर नौकाओं पर सवार होकर वहां पहुंचे थे। बलात्कार, प्रताड़ना और गांवों को जलाकर राख करने जैसी घटनाएं भी इस दौरान हुईं।

धर्म कर्तव्य है और जो सत्ता में हैं वह ‘राजधर्म’ की बात करते हैं : आरएसएस



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.