इन अविस्मरणीय योगदान के लिए दुनियाभर में हमेशा याद किए जाएंगे स्‍टीफन हॉकिंग

Samachar Jagat | Wednesday, 14 Mar 2018 10:24:07 AM
Stephen Hawking will always be remembered Worldwide For these unforgettable contributions

इंटरनेट डेस्क। दुनिया के जाने-माने भौतिक विज्ञानी स्‍टीफन हॉकिंग का जन्‍म आठ जनवरी, 1942 को इंग्‍लैंड के ऑक्‍सफोर्ड में हुआ। हॉकिंग ने दुनिया को कई रहस्यों के बारे में बताया। हॉकिंग भौतिक विज्ञानी के साथ-साथ ब्रह्मांड विज्ञानी और लेखक थे। अगर इनकी खास उपलब्धियों के बारे में बात करें तो हॉकिंग ने ही ब्रह्मांड के रहस्‍यों को बताया था।

बरसों से दुनिया इस बारे में जानने की इच्छुक थी और इसको पूरा किया टीफन हॉकिंग ने। ब्रह्मांड के रहस्यों पर उनकी किताब 'अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम' काफी चर्चित हुई थी। इस किताब की करीब 1 करोड़ प्रतियां बिकी थीं। वह यूनिवर्सिटी ऑफ कैम्ब्रिज के सेंटर फॉर थियोरेटिकल कॉस्‍मोलॉजी के रिसर्च विभाग के डायरेक्‍टर भी थे। उनके पास 12 मानद डिग्रियां थीं।

दुनिया को ब्रह्माण्ड का रहस्य बताने वाले वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का निधन

इसके अलावा हॉकिंग रेडिएशन, पेनरोज-हॉकिंग थियोरम्‍स, बेकेस्‍टीन-हॉकिंग फॉर्मूला, हॉकिंग एनर्जी समेत कई अहम सिद्धांत दुनिया को दिए। स्टीफन हॉकिंग ने ब्लैक होल और बिग बैंग सिद्धांत को समझने में अहम योगदान दिया है। उन्हें अमेरिका के सबसे उच्च नागरिक सम्मान से नवाजा गया था। स्‍टीफन हॉकिंग ने एक और चमत्कार करने पर काम कर रहे थे। वो ब्लैक होल्स पर काम कर रहे थे जो वैज्ञानिकों को भी आश्चर्यचकित करने वाला था।  

पाकिस्तान में अब इमरान खान पर फेंका गया जूता

21 साल की उम्र में ही वो एमायोट्रॉफिक लैटरल स्क्लेरॉसिस (ALS) से पीड़ित थे। यह एक तरह की न्यूरोलॉजिकल बीमारी है जिसकी वजह से दिमाग का मांसपेशियों पर नियंत्रण समाप्त हो जाता है। इतनी कम उम्र में इस बीमारी से पीड़ित होने के बावजूद उन्होंने कॉस्मॉलोजी के क्षेत्र में जितनी बड़ी खोजें की वो सभी के लिए प्रेरणा हैं। भौतिकविद् और कॉस्मोलॉजिस्ट स्टीफन हॉकिंग का 76 की उम्र में निधन हो गया है।

source google

अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन पर अमेरिका ने की भारत की प्रशंसा

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने खुद को नारीवादी बताया



 
loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.