श्रीलंका में विस्फोट न्यूजीलैंड में मस्जिदों पर हमले का बदला था : मंत्री

Samachar Jagat | Tuesday, 23 Apr 2019 06:22:31 PM
The blast in Sri Lanka was a revenge for attacks on mosques in New Zealand: Minister

कोलंबो। श्रीलंका के एक वरिष्ठ मंत्री ने प्राथमिक जांच के परिणाम का उल्लेख करते हुए मंगलवार को संसद को जानकारी दी कि ईस्टर के मौके पर रविवार को देश के गिरजाघरों और लग्जरी होटलों में हुए विस्फोटों को स्थानीय इस्लामी कट्टरपंथियों ने अंजाम दिया था। उन्होंने बताया कि ये विस्फोट न्यूजीलैंड की मस्जिदों में की गई गोलीबारी का बदला लेने को किए गए थे।

Rawat Public School

रविवार को हुए हमलों पर चर्चा करने के लिए बुलाए गए संसद के आपात सत्र को संबोधित करते हुए श्रीलंका के रक्षा राज्य मंत्री रूवन विजयवर्धने ने कहा कि शुरुआती जांच में पाया गया है कि आत्मघाती हमले 15 मार्च को न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हुए हमले का बदला लेने को किये थे जिसमें 50 लोगों की मौत हुई थी।

विजेवार्डे ने ने संसद से कहा कि शुरुआती जांच में खुलासा हुआ है कि श्रीलंका में (रविवार को) जो कुछ हुआ वो क्राइस्टचर्च में मुसलमानों पर हुए हमले का बदला था। उन्होंने कहा कि हमले से पहले कुछ सरकारी अधिकारियों को भेजे खुफिया मेमो के मुताबिक, श्रीलंका में हमले के लिए जिम्मेदार इस्लामी कट्टरपंथी संगठन के सदस्य ने क्राइस्टचर्च हमले के बाद सोशल मीडिया पर चरमपंथी सामग्री पोस्ट की थी। यह हमला दक्षिणपंथी चरमपंथी ने किया था।

तीन गिरजाघरों और तीन होटलों पर हमले के बाद सरकार ने नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) को कसूरवार ठहराया है। विजयवर्धने ने एनटीजे पर प्रतिबंध का प्रस्ताव रखा है। सभी फिदायीन हमलावर श्रीलंकाई नागरिक थे लेकिन माना जाता है कि समूह का विदेशी आतंकवादियों के साथ संपर्क है। बहरहाल, किसी भी समूह ने जिम्मेदारी नहीं ली है।

यह रेखांकित करते हुए कि हमला स्थानीय कट्टरपंथियों ने अंजाम दिया है, मंत्री ने कहा कि विस्फोटों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 321 हो गई जिनमें 38 विदेशी शामिल हैं। श्रीलंका में हुए सबसे घातक हमले में 10 भारतीयों की भी मौत हुई है।

प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने रविवार को हुए हमले के बारे में कहा है कि वैश्विक आतंकवाद श्रीलंका पहुंच रहा है। विक्रमसिंघे ने संसद में कहा कि श्रीलंका ने 2009 तक राजनीतिक उद्देश्य के आतंकवादी अभियान का सामना किया लेकिन ये हमले उस प्रकृति से अलग के थे। 2009 में लिट्टे के साथ तीन दशक लंबी लड़ाई उसकी हार के साथ खत्म हो गई थी।

उन्होंने कहा कि मुसलमान समुदाय इन हमलों के खिलाफ है। सिर्फ कुछ ही इन हमलों में शामिल हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने विस्फोट को लेकर श्रीलंका के साथ एकजुटता व्यक्त की है।
विपक्ष के नेता महेंदा राजपक्षे ने राष्ट्रीय सुरक्षा सुनिश्चित करने में विफलता के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।

उन्होंने कहा कि जब मैंने सरकार सौंपी थी तो यह आतंकवाद से मुक्त थी। मेरी सरकार के दौरान ऐसा हमला कभी नहीं हुआ। राजपक्षे ने कहा कि अगर सरकार जनता की सुरक्षा की गारंटी नहीं दे सकती तो उसे सत्ता छोड़ देनी चाहिए। एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.