सहिष्णुता, प्यार, विविधता और समावेशन हिदुत्व के पहलू हैं : कृष्णमूर्ति

Samachar Jagat | Saturday, 08 Sep 2018 12:50:25 PM
Tolerance, love, diversity and inclusion are aspects of Hinduism: Krishnamurthy

शिकागो। भारतीय मूल के अमेरिकी सांसद राजा कृष्णमूर्ति ने कहा कि सहिष्णुता, प्यार, विविधता और समावेशन हिदुत्व के पहलू हैं जो लोगों को उनके धर्मों की परवाह किए बिना उन्हें अपनाता है। वहीं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने हिन्दु समुदाय से एकजुट होकर मानव कल्याण के लिए काम करने की अपील की।

सनी देओल और बॉबी देओल को पिता धर्मेन्द्र ने विरासत में दी ये अनमोल चीज, जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

कृष्णमूर्ति ने हिदुओं से इन मूल्यों का सभी पीढ़ियों में अनुसरण करने का भी आग्रह किया। दूसरे विश्व हिंदू सम्मेलन को संबोधित करते हुए कृष्णमूर्ति ने कहा कि हिदुत्व में सहिष्णुता और समावेशन जैसे मूल्य शामिल हैं। उन्होंने कहा कि हमें अपने बच्चों और सभी पीढ़ियों को सहिष्णुता, प्रेम, विविधता और समावेशन के मूल्य सिखाने चाहिए जो हिदुत्व में शामिल हैं।

हमें अपने आप को हिदुत्व के इस सर्वोच्च रूप की ओर फिर से प्रतिबद्ध करना होगा और किसी अन्य रूप को खारिज करना होगा। उन्होंने कहा कि हमें हर व्यक्ति को स्वीकार करना चाहिए। चाहे वह जहां से भी हो और उनका धर्म या पंथ जो भी हो।

धर्मपरायण हिदू और इलिनोइस से पहले भारतीय मूल के कांग्रेस सदस्य ने कहा कि उन पर अपने कुछ लोगों से इस महा सम्मेलन में भाग न लेने का दबाव था। स्वामी विवेकानंद के 11 सितंबर 1893 के भाषण का जिक्र करते हुए कृष्णमूर्ति ने कहा कि बराबरी और अनेकवाद की उनकी विरासत के कारण मैं एक हिदू, एक अमेरिकी और एक अमेरिकी सांसद के तौर पर आपके सामने खड़ा हूं।

ऐसा करके हम स्वामी विवेकानंद की सच्ची विरातस का सम्मान करेंगे। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि सभी लोग चाहे कहीं भी हो वह हमारे धर्म का अनुभव करें जो है शांति, शांति, शांति। इससे पहले शुक्रवार को इसी सम्मेलन में करीब 2,500 लोगों को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा कि हिन्दू समाज में प्रतिभावान लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है।

BIRTHDAY SPECIAL: अपनी दिलकश आवाज से करोड़ों दिल पर राज करने वाली आशा भोंसले ने की थी 16 की उम्र में शादी

हिन्दू सिद्धांत से प्रेरित अपने संबोधन में भागवत ने कहा कि लेकिन वे कभी साथ नहीं आते हैं। हिन्दुओं का साथ आना अपने आप में मुश्किल है। उन्होंने कहा कि हिन्दू हजारों सालों से प्रताड़ित हो रहे हैं क्योंकि वे अपने मूल सिद्धांतों का पालन करना और आध्यात्मिकता को भूल गए हैं। सभी लोगों के साथ आने पर जोर देते हुए भागवत ने कहा कि हमें साथ आना होगा।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.