अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुल्क नीति का किया बचाव कहा, चीन की वजह से विफल हुई व्यापार वार्ता

Samachar Jagat | Monday, 13 May 2019 03:35:30 PM
Trade talks due to China failed Trump

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुल्क नीति का बचाव किया और चीन पर व्यापार वार्ता के विफल होने का दोष मढ़ा है। उन्होंने जोर दिया कि ’’व्यापार वार्ता वैसी ही रही, जैसी हम चाहते थे।’’ चीन और अमेरिका के बीच व्यापार मोर्चे पर चल रही बातचीत बिना किसी समझौते के खत्म होने के बाद दोनों देश एक बार फिर व्यापार युद्ध में उलझ गए हैं। चीन के साथ व्यापार वार्ता विफल रहने के बीच ट्रंप ने चीन से आयात होने वाले 200 अरब डॉलर के सामान पर शुल्क को 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत कर दिया। ये दरें शुक्रवार से लागू हो गईं। अमेरिका चीन से होने वाले शेष 300 अरब डॉलर के आयात पर भी इसी प्रकार से शुल्क बढ़ाने की तैयारी में है।

नफरत की विचारधारा के समर्थकों को रचनात्मक कार्यों में शामिल करने की जरूरत :  वेंकैया नायडू

ट्रंप ने अपने ट्वीट में चीन के खिलाफ सख्त रुख अपनाने का संकेत दिया। ट्रंप ने चीनी उत्पादों पर भारी शुल्क लगाने के अपने फैसले पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा, ’’हम सही हैं, हमें चीन के साथ जहां होना चाहिए हम वहीं हैं। याद रखिए, चीन ने हमारे साथ व्यापार समझौते को लेकर बातचीत को तोड़ा है और फिर से बातचीत की कोशिश की।’’ उन्होंने कहा कि चीन से आयातित उत्पादों पर शुल्क बढ़ाने से अमेरिका को काफी राजस्व मिलेगा। राष्ट्रपति ने कहा, ’’हमें चीन से शुल्क के रूप में कई अरब डॉलर मिलेंगे। चीन से उत्पादों के खरीदार इन उत्पादों को खुद अमेरिका में बना सकते हैं या फिर जिन देशों पर शुल्क नहीं लगाया गया है, उनसे खरीद सकते हैं।’’

गुएडो ने अमेरिका में अपने प्रतिनिधि से अमेरिकी सेना के अधिकारी से मिलने को कहा

अमेरिकी राष्ट्रपति ने जोर दिया कि चीन ने अपनी नीतियों में अचानक बदलाव इसलिए किया क्योंकि उसे लगता है कि 2020 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता व्हाइट हाउस में उनकी जगह ले लेंगे। ट्रंप ने कहा, ’’चीन सपना देख रहा है कि जो बिडेन या कोई और 2020 में अमेरिका का राष्ट्रपति बन जाए ताकि वह (चीन) आसानी से अमेरिका का अनुचित लाभ उठा सकें।’’

ट्रंप के शीर्ष आर्थिक सलाहकार लैरी कुडलो ने बताया कि बढ़े हुए करों का भुगतान अमेरिका के उपभोक्ताओं को करना होगा। उन्होंने कहा, चीन शुल्क नहीं दे रहा है वास्तव में अमेरिकी आयातक, अमेरिकी कंपनियां करों का भुगतान कर रही हैं।
ट्रंप ने चीन और अमेरिका के शीर्ष वार्ताकारों के बीच हुई बैठक बिना किसी समझौते के समाप्त होने के बाद यह कदम उठाया। दोनों देशों के बीच 11वें दौर की बैठक शुक्रवार को बिना किसी समझौते के खत्म हुई। हालांकि, चीन के उप-प्रधानमंत्री और चीन की ओर से पेश शीर्ष वार्ताकार लियू ही ने कहा कि अमेरिका के साथ व्यापार वार्ता टूटी नहीं है। -एजेंसी

चांद देखने के विज्ञान का सहारा लेने वाले पाकिस्तान के मंत्री के बयान पर उपजा विवाद

दक्षिण एशियाई लोगों की सैकड़ों पहचान , सभी को संरक्षित किया जाना चाहिए  : फातिमा भुट्टो

loading...


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.