समलैंगिक संबंधों पर फैसले को संयुक्त राष्ट्र ने सराहा

Samachar Jagat | Monday, 10 Sep 2018 06:31:38 PM
United Nations praised decision on gay relations

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जेनेवा। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बैशेले ने समलैंगिक संबंधों पर भारतीय उच्चतम न्यायालय के फैसले की आज तारीफ की। बैशेले ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् की 39वीं बैठक को संबोधित करते हुए सोमवार को यहां कहा मैं भारत में उच्चतम न्यायालय द्वारा समलैंगिक संबंधों को अपराध की श्रेणी से हटाने के फैसले की तारीफ करती हूं।

नौ अक्टूबर से मुशर्रफ के खिलाफ देशद्रोह के मामले की हर रोज होगी सुनवाई 

जैसा कि मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति मिश्रा ने कहा, दो वयस्कों के बीच सहमति से बने संबंधों को अपराध की श्रेणी में रखना बेतुका है। इससे भेदभाव तथा उत्पीडऩ होता है। मैं उम्मीद करती हूं कि इस संबंध में दुनिया के अन्य देश भारत का अनुसरण करेंगे। उच्चतम न्यायालय ने 06 सितम्बर को एक ऐतिहासिक फैसले में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 377 के प्रावधानों को मनमाना और अतार्किक करार देते हुए दो वयस्कों के बीच आपसी सहमति से बनाए गए समलैंगिक संबंध को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया।

थोड़े से रुपए के लालच में बेटे ने ही किया पिता और भाई के साथ ऐसा, पढक़र उड़ जाएंगे आपके होश

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति रोहिंगटन एफ नरीमन और न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा की संविधान पीठ ने धारा 377 के प्रावधानों को चुनौती देने वाली याचिकाओं का संयुक्त रूप से निपटारा करते हुए कहा कि एलजीबीटी समुदाय को वह हर अधिकार प्राप्त है, जो देश के किसी आम नागरिक को मिला हुआ है।

रूस में स्थानीय चुनाव रविवार को, विपक्ष ने पेंशन सुधारों के खिलाफ प्रदर्शन का किया आह्वान

न्यायालय ने हालांकि पशुओं और बच्चों के साथ अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने के मामले में धारा 377 के एक हिस्से को पहले की तरह अपराध की श्रेणी में ही बनाए रखा है।

फिल्म मनमर्जिया में सरदार का किरदार निभाने वाले अभिषेक बच्चन को आई अपनी दादी की याद, कहीं ये बात

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.