पतन का कारण खोजो : मुनिश्री

Samachar Jagat | Tuesday, 31 Jul 2018 09:17:08 AM
Find the cause of the downfall: Munishri

देवली। संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर जी महाराज के परम प्रभावक शिष्य मुनि पुंगव श्री सुधासागर जी महाराज ने कहा कि व्यक्ति फर्श से अर्स पर क्यों आ जाता है? ऊंचाइयों पर टिके रहना मुश्किल क्यों है? हमें मानव के पतन का कारण खोजना है। मुनिश्री ने उक्त विचार सोमवार को सुदर्शनोदय तीर्थ आवां में धर्मसभा में व्यक्त किए।

 मुनिश्री ने स्वच्छ व धुले कपड़े शाम तक मैले और दाग युक्त हो जाने का उदाहरण देते हुए कहा कि इसी प्रकार हमारा जीवन भी जन्म के समय पावन और निर्मिल होता है, लेकिन समय के साथ ये पापाचार से गंदा होता जाता है। 

मुनिश्री ने कहा किया कि ऊंचाइयां प्राप्त करना नहीं, ऊंचाइयों पर टिके रहना मुश्किल है। उन्होंने कहा कि आप के किसी कार्य के कारण माता-पिता की आंख मे आंसू आ गए वहीं से तुम्हारे बुरे दिन शुरू हो गए। इनका दिल दु:खाने से सारे पुण्र्य समाप्त हो जाएंगे। तुम्हे कोई नहीं बचा पाएगा।

 उन्होंने कहा कि दुश्मन से पिटने पर तुम्हारा कोई अहित नहीं होगा वहीं अगर माता- पिता को तुम्हे पीटना पड़ा तो तुम्हारा पतन निश्चित है। मुनि ने गृहस्थी व साधु के जीवन को बरगद और खजूर के पेड़ से समझाया। उन्होंने कहा कि गृहस्थी बरगद के पेड़ पर बैठा है जिसका फल तो मीठा नहीं पर गिरने पर शाखाओं का सहारा है। वहीं मुनि ख़ज़ूर के पेड़ पर है, जिसका फल तो स्वादिष्ट है पर जरा से चूकने पर चकनाचूर होना निश्चित है।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.