19 साल बाद श्रावण मास में बन रहा है ये विशेष संयोग

Samachar Jagat | Tuesday, 31 Jul 2018 04:53:58 PM
After 19 years, this special combination is happening in the month of Shravan

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इलाहाबाद। बम बम भोले और हर हर महादेव के जयकारों से चहूं ओर का वातावरण गुंजायमान हो रहा है। 19 साल बाद ऐसा विशेष संयोग बना है, जब अधिकमास होने के कारण सावन का महीना पूरे 30 दिनों का है। वहीं इस बार सावन में चार सोमवार पड़ रहा है। सावन का पहला सोमवार 30 जुलाई, दूसरा छह अगस्त ,तीसरा सोमवार 13 अगस्त एवं चौथा और अंतिम सोमवार 20 अगस्त को पड़ रहा है। वैदिक शोध संस्थान एवं कर्मकाण्ड प्रशिक्षण केन्द्र के पूर्व आचार्य डा. आत्मा राम गौतम ने पौराणिक आख्यानों के हवाले से बताया कि श्रावण मास भगवान शिव का प्रिय महीना जाना जाता है।

यह भी कहा गया है कि इस माह में जीव को शिव की आराधना का कई गुना फल मिलता है। उन्होंने कहा कि शिवपुराण में बताया गया है भगवान शिव ने सावन के महीने में माता पार्वती की तपस्या से खुश होकर उन्हें पत्नी के रूप में स्वीकार किया था। सावन के महीने में भगवान शिव अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। उन्होंने बताया कि शिवपुराण में उल्लेख है कि समुन्द्र मंथन से निकले हलाहल के पान से देवाधिदेव को अत्यधिक पीड़ा हुई, जिसके चलते पृथ्वी पर चारों ओर हाहाकार मच गया। 

Offer these things to please Lord Shiva in the month of Shravan.

भयंकर ताप से लोग काल के गाल में समाने लगे। परेशान देवताओं ने श्री हरि विष्णु से बचाव का उपाय पूछा। उन्होंने देवताओं को बताया कि गंगाजल से भगवान शिव का अभिषेक करने से विषपान का असर खत्म होगा। तब ब्रह्मा ने गंगाजल से अभिषेक किया। इससे शिव का ताप कम हुआ और वह प्रसन्न हुए। इसीलिए कहा गया है कि सावन में भोलेनाथ का गंगाजल से अभिषेक पूजन करने वालों को सांसारिक कष्टों से मुक्ति मिलती है और मनोकामना पूरी होती है। -एजेंसी 

अगर आप भी चाहते हैं कि आपका नया प्लॉट वास्तुदोष से मुक्त हो तो इन चीजों का रखें ध्यान

अगर चाहते हैं कि माता लक्ष्मी आप पर रहें मेहरबान तो इस तरह से अपनी झाडू का रखें ध्यान

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.