मिनी उर्स के दौरान बाबा फरीद का चिल्ला खुला

Samachar Jagat | Saturday, 15 Sep 2018 04:10:30 PM
Baba Farid's screams open during the mini Urs

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

अजमेर। राजस्थान के अजमेर में मोहर्रम के मौके पर चल रहे मिनी उर्स के दौरान आज तड़के दरगाह स्थित बाबा फरीद का चिल्ला खोल दिया। यह चिल्ला साल में एक बार सिर्फ़ मोहर्रम में ही 72 घंटो के लिए खोला जाता है। दरगाह परिसर स्थित इस चिल्ले के खुलने पर अकीदतमंदों की कतार लग गई। बाबा फरीद ने यहां कई दिनों तक इबादत की थी। आपको बता दें कि बाबा फरीद की मजार पाकिस्तान स्थित पाकपट्टम में है जहां आज मोहर्रम की पांच तारीख को उर्स मनाया जाता है और इसी ही मौके पर अजमेर में चिल्ला खोले जाने की भी परंपरा है।

इसके पीछे मान्यता है कि बाबा फरीद के उर्स में जो लोग पाकिस्तान न जा पाएं वे अजमेर दरगाह शरीफ स्थित चिल्ले की समानांतर जियारत कर सकें। बाबा फरीद गंज -ए - शक्कर के नाम से भी जाने जाते है। उन्होंने अजमेर ख्वाजा साहब की दरगाह में चालीस दिन तक चिल्ला ( इबादत ) की थी । दरगाह क्षेत्र हजरत इमाम हुसैन की याद चिश्तिया रंग में डूबा नजर आ रहा है। क्षेत्र में डोल ताशों की गूंज के बीच मरसियाखुवानी एवं बयान - ए - शहादत का सिलसिला जारी है। चारों तरफ हरे कुर्ते पहने स्थानीय हजरत इमाम हुसैन की याद में खोए हुए हैं ।

दूरदराज से आने वाले जायरीनों द्बारा ख्वाजा साहब की मजार पर चादर चढ़ाने का काम भी कर रहे हैं । गौरतलब है कि कल मोहर्रम के दौरान पहले जुम्मे पर हजारों जायरीनों ने जुम्मे की नमाज अदा की। नए मुस्लिम संवत 1440 के चलते बड़ी संख्या में जायरीन मोहर्रम में भाग लेने अजमेर शरीफ पहुंचे और जुम्मा होने से चिलचिलाती धूप के बावजूद करीब 70 हजार से ज्यादा जायरीनों ने नमाज अदा की। - एजेंसी 

इजरायल पर्यटन के लिए तीन साल में पांच शीर्ष बाजारों में शामिल हो सकता है भारत

देश में विलुप्त हुए चीता को मध्यप्रदेश की नौरादेही वन्यजीव अभयारण्य में बसाने की कवायद फिर शुरू

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.