भीष्म पितामह ने मृत्यु से पहले स्त्रियों के बारे में जो कहा, आज भी पुरूषों को करना चाहिए उन बातों पर अमल

Samachar Jagat | Wednesday, 13 Feb 2019 05:30:12 PM
Bhishma Pitamah said about women before death, Even today, men should follow those things

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। माघ मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी को भीष्‍म अष्‍टमी मनाई जाती है। आज भीष्‍म अष्‍टमी है और कुछ लोग इस दिन व्रत और दान - पुण्य भी करते हैं। शास्त्रों के अनुसार, इस दिन भीष्म पितामह ने सूर्य के उत्तरायण होने पर अपने प्राण त्यागे थे। जब भीष्म पितामह तीरों की शैय्या पर लेटे हुए थे तब उन्होंने युधिष्ठिर को स्त्रियों को लेकर कुछ खास बातें बताई थीं। इनमें से कुछ बातें आज के समय में भी प्रासंगिक हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में.....


इस मंदिर में रात को रूकना है मना, जो रूका वो नहीं देख पाया सुबह का सूरज

भीष्म पितामाह ने युधिष्ठिर को बताया कि जिस घर में स्त्रियों का सम्मान नहीं होता है उस कुल का जल्दी ही नाश हो जाता है और ऐसे घर में लक्ष्मी भी निवास नहीं करती है। वहीं जिस घर में स्त्रियों को पूरा मान - सम्मान दिया जाता है, उस घर में कभी भी किसी चीज की कोई कमी नहीं होती है।

श्रीमद भगवद गीता के श्लोकों में छिपा हुआ है डायबिटीज का इलाज

भीष्म पितामाह ने युधिष्ठिर को बताया कि स्त्रियां नाराज होकर जिन घरों को श्राप दे देती हैं, वे नष्ट हो जाते हैं।

भीष्म पितामाह ने कहा कि जिस घर में स्त्रियों की इच्छाओं की पूर्ति नहीं होती है उस घर के पुरूषों को कभी भी प्रसन्नता नहीं मिलती है। जहां स्त्रियों का आदर होता है, वहां देवता प्रसन्न होकर निवास करते हैं। स्त्रियां ही घर की लक्ष्मी हैं, इसीलिए पुरुषों को उनका भलीभांति सत्कार करना चाहिए।

(ये सभी जानकारियां शास्त्रों और ग्रंथों में वर्णित हैं, लेकिन इन्हें अपनाने से पहले किसी विशेष पंडित या ज्योतिषी की सलाह अवश्य ले लें।)

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसान

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.