राशि अनुसार ये उपाय करने से शीघ्र बनने लगते हैं विवाह के योग

Samachar Jagat | Tuesday, 02 Apr 2019 07:00:01 AM
By taking these measures according to the zodiac Yoga of early begins to form marriage

धर्म डेस्क। अगर आपका अभी तक विवाह नहीं हुआ है और प्रयास करने के बाद भी विवाह के योग नहीं बन रहे हैं तो आपको अपनी राशि के अनुसार कुछ खास उपाय करने की आवश्यकता है, अगर आप ये उपाय करेंगे तो शीघ्र ही विवाह के योग बनने लगेंगे ...........

मेष राशि :-

मेष राशि के जातक 16 सोमवार का व्रत करें और ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करें।

वृष राशि :-

वृष राशि के जातक गाय को हरा चारा खिलाएं और ऊं अंगारकाय नम: मंत्र का जाप करें।

15 unique kinnar couples married in Raipur

मिथुन राशि :-

मिथुन राशि के जातक हर गुरूवार को केले के पेड़ की पूजा करें और ऊं बृं बृहस्‍पतये नम:मंत्र का जाप करें।

कर्क राशि :-

कर्क राशि के जातक गुरूवार के दिन पीपल के पेड़ में मीठा जल चढ़ाएं और ऊं शं शनैश्‍चराय नम: मंत्र का जाप करें।

सिंह राशि :-

सिंह राशि के जातक गाय को हरा चारा खिलाएं और ऊं बृं बृहस्‍पतये नम: मंत्र का जाप करें।

कन्‍या राशि :-

कन्या राशि के जातक शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करें और ऊं शं शनैश्‍चराय नम: मंत्र का जाप करें।

तुला राशि :-

तुला राशि के जातक भगवान गणेश की पूजा करें और ऊं बुं बुधाय नम: मंत्र का जाप करें।

वृश्चिक राशि :-

वृश्चिक राशि के जातक मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करें और ऊं अं अंगारकाय नम: मंत्र का जाप करें।

धनु राशि :-

धनु राशि के जातक प्रतिदिन गाय को रोटी में गुड रखकर खिलाएं और ऊं बृं बृहस्‍पतये नम: मंत्र का जाप करें।

मकर राशि :-

मकर राशि के जातक सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करें और ऊं सों सोमाय नम: मंत्र का जाप करें। 

कुंभ राशि :-

कुंभ राशि के जातक प्रत्येक मंगलवार और गुरूवार को गाय को गुड खिलाएं और ऊं शुं शुक्राय नम: मंत्र का जाप करें।

मीन राशि :-

मीन राशि के जातक रविवार को सूर्यदेव को जल अर्पित करें और ऊं ह्रीं सूर्याय नम: मंत्र का जाप करें।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.