हनुमान चालीसा का पाठ करते समय भूलकर भी न करें ये गलतियां

Samachar Jagat | Tuesday, 23 Apr 2019 08:40:19 AM
Do not make these mistakes by forgetting while reciting Hanuman Chalisa

धर्म डेस्क। हिंदू धर्म में हनुमान जी को भगवान शिव का अवतार माना जाता है और इसी वजह से इनकी पूजा-अर्चना की जाती है। हनुमान जी की पूजा करने का सबसे उत्तम दिन मंगलवार होता है, ये माना जाता है कि अगर मंगलवार के दिन हनुमान जी की विधिवत पूजा की जाए और हनुमान चालीसा का पाठ किया जाए तो इससे वे बहुत प्रसन्न होते हैं। शास्त्रों के अनुसार जिस घर में हनुमान चालीसा का पाठ होता है उस घर से नकारात्मक शक्तियां दूर रहती हैं और घर में खुशहाली रहती है। हनुमान चालीसा का पाठ करते समय कुछ साव​धानियां बरतने की भी आवश्यकता होती है क्योंकि अगर हनुमान चालीसा का पाठ करते समय ये गलतियां हो जाएं तो इससे व्यक्ति को लाभ की जगह हानि उठानी पड़ती है। हनुमान चालीसा का पाठ करते समय कौनसी गलतियां नहीं करनी चाहिए आइए आपको बताते हैं इनके बारे में ................

महाभारत के युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाली ये महिला हवनकुंड से हुई उत्पन्न, जानिए जन्म से जुड़ी रोचक कथा के बारे में...

Samachar Jagat

हनुमान चालीसा का पाठ स्नान आदि से निवृत्त होकर लाल या गुलाबी वस्त्र पहनकर ही करना चाहिए, गंदे कपड़े पहनकर हनुमान चालीसा का पाठ कभी नहीं करना चाहिए, इससे हनुमान जी क्रोधित होते हैं।

हनुमान चालीसा का पाठ करते समय सबसे पहले एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाएं और उस पर हनुमान जी की प्रतिमा रखें, हनुमान जी की प्रतिमा के समक्ष घी का दीपक और अगरबत्ती जलाएं और एक तांबे के लोटे में पानी भरकर रखें, इसके बाद हनुमान चालीसा का पाठ प्रारंभ करें। ध्यान रहे पाठ करते समय आपका मुख पूर्व या दक्षिण की ओर होना चाहिए।

अगर इस मंदिर में पति-पत्नी एक साथ कर लें माता के दर्शन तो वैवाहिक जीवन में परेशानियां हो जाती है शुरू

Samachar Jagat

हनुमान चालीसा का पाठ केवल तीन बार ही करना चाहिए। अगर आप हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं तो आपको मांस, मदिरा आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
रिलेटेड न्यूज़
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.