धन की कमी न हो इसके लिए गुरूवार के दिन करें ये कार्य

Samachar Jagat | Thursday, 11 Jan 2018 07:00:01 AM
Do not waste money on Thursday, do these tasks

धर्म डेस्क। महर्षि अंगिरा के पुत्र बृहस्पतिदेव नवग्रहों में सबसे शुभ ग्रह हैं। गुरुवार को देवताओं के गुरु बृहस्पति देव का दिन माना जाता है। जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर बृहस्पतिदेव का अधिकार माना जाता है जैसे- शिक्षा, धर्म, धन, विवाह, पुत्र, परोपकार, कानूनी मामले आदि। अगर आप भी इन सभी क्षेत्रों में मनचाही उपलब्धि पाना चाहते हैं तो बृहस्पति देव को खुश करने के लिए गुरुवार को कुछ विशेष उपाय करें। 

भगवान श्रीकृष्ण ने इस छोटी सी चीज को क्यों दिया इतना महत्व

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार धन का कारक ग्रह गुरु है। जिस पर गुरु की कृपा होती है उसकी आर्थिक स्थिति हमेशा अच्छी रहती है। इसके लिए लाल किताब में कुछ उपाय बताए गए हैं। इन उपायों को करने से आपके घर में बरकत बनी रहेगी और बचत भी होने लगेगी। 

आज भी अनसुलझे हैं तिरुपति बालाजी मंदिर के ये रहस्य

गुरूवार को धन वृद्धि के लिए आजमाएं ये उपाय.... 

रास्ते में जाते समय अगर आपको कोई किन्नर दिखाई दे तो उसे अपनी इच्छा के अनुसार कुछ रुपए भेंट करें। अगर संभव हो तो किन्नर को भोजन भी कराएं। इसके बाद उस किन्नर से आप एक सिक्का (उसके पास रखा हुआ, आपके द्वारा दिया हुआ नहीं) मांग लें। इस सिक्के को अपने गल्ले, कैश बॉक्स या धन स्थान पर रख दें। इससे कुछ ही दिनों में आपकी बरकत बढ़ जाएगी।

गुरुवार के दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करें और घी का दीप जलाकर भगवान विष्णु की पूजा करें। 

शाम के समय केले के पेड़ के नीचे दीपक जलाकर लड्डू या बेसन की मिठाई चढ़ाएं और लोगों में बांट दें।

गुरुवार को भगवान की पूजा के बाद केसर का तिलक लगाएं। अगर केसर न हो तो हल्दी का तिलक भी लगा सकते हैं।

इस राक्षस की वजह से यहां पर मिलता है पितरों को मोक्ष!

अगर कोई गुरुवार के दिन आपसे धन मांगने आता है तो लेन देने न करें। गुरुवार को धन देने से आपका गुरु कमजोर हो जाता है और इससे आर्थिक परेशानी बढ़ती है।

गुरुवार के दिन पीले रंग के वस्त्र उपहार या दान में दें। 

सवा पांच किलो आटा एवं सवा किलो गुड़ को मिलाकर रोटियां बना लें। गुरुवार के दिन शाम को 

गाय को ये रोटियां खिलाएं। तीन गुरुवार तक ऐसा करने से दरिद्रता समाप्त हो जाती है।

Source-Google

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

शास्त्रों के अनुसार क्यों नहीं लगाना चाहिए झाड़ू को पैर

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.