जन्माष्टमी पर द्वारका और डाकोर के कृष्ण मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़

Samachar Jagat | Monday, 03 Sep 2018 05:38:39 PM
Due to Janmashtami, there is a crowd of devotees in Dwarka and Dakors Krishna temples

द्वारका। गुजरात स्थित भगवान कृष्ण के दो विश्वप्रसिद्ध मंदिरों सौराष्ट्र में द्वारका के जगत मंदिर तथा मध्य गुजरात के डाकोर के रणछोड़राय जी मंदिर में आज जन्माष्टमी के मौके पर मनोहारी सजावट की गई है तथा विशेष पूजा - अर्चना के आयोजनों के बीच भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी। भगवान विष्णु, श्रीकृष्ण को जिनका अवतार माना जाता है, के उत्तर गुजरात स्थित विख्यात शामलाजी मंदिर में कुछ ऐसा ही माहौल दिखा। तीनों ही मंदिरों में भगवान की प्रतिमा का आज रत्नाभूषणों से विशेष श्रृंगार किया गया। 

द्वारका के जगत मंदिर में हर साल जन्माष्टमी के मौके पर मध्य रात्रि से तड़के ढाई बजे तक विशेष जन्मोत्सव दर्शन के दौरान भगवान को विशेष आभूषणों से सजाया जाता है। मंदिर के उप प्रशासक ने बताया कि नियमित आयोजित होने वाली मंगला, श्रृंगार, संध्या और शयन आरती के स्थान पर जन्माष्टमी का मुख्य आकर्षण यहीं होता है। आम तौर पर इस मंदिर में रोज दस हजार के आसपास दर्शनार्थी आते हैं पर जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर यह संख्या 50 हजार या उससे अधिक और जन्माष्टमी को 80 हजार से एक लाख तक पहुंच जाती है। 

उधर डाकोर मंदिर के संचालन ट्रस्ट के एक अधिकारी ने बताया कि आज कृष्ण स्वरूप रणछोड़रायजी की प्रतिमा को तीन से चार किलो सोने से बने और रत्न एवं हीरे आदि जड़ित मुकुट पहनाया जाता है। ऐसा साल भर में जन्माष्टमी के अलावा केवल दो और मौकों आश्विन और कार्तिक पूर्णिमा को ही किया जाता है।उन्होंने बताया कि आम तौर पर यह मंदिर सुबह साढ़े छह बजे मंगला आरती के साथ खुलता है और शाम साढ़े सात बजे अंतिम आरती शयना आरती के साथ बंद हो जाता है पर जन्माष्टमी को इस मंदिर के पट मध्यरात्रि के बाद भी खुले रहते हैं। -एजेंसी 

रावण ने यहां किया था भगवान शंकर पर गंगाजल अर्पित, सावन माह में लगती है भक्तों की भीड़


 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.