इन शुभ योगों के कारण इस बार की सावन शिवरात्रि है बहुत खास

Samachar Jagat | Thursday, 09 Aug 2018 05:31:31 PM
Due to these auspicious formulations, this time Savan Shivratri is very special

धर्म डेस्क। हिन्दू शास्त्रों में दो शिवरात्रियों का बहुत महत्व है, पहली महाशिवरात्रि जो फाल्गुन मास में आती है और दूसरी सावन माह में आने वाली शिवरात्रि। प्रत्येक वर्ष सावन में आने वाली शिवरात्रि को भगवान शिव की पूजा की जाती है, इस शिवरात्रि को बहुत ही खास माना जाता है। आज सावन की शिवरात्रि पर पूरे देश में भोलेनाथ की विशेष पूजा-अर्चना की जा रही है। आज शिवरात्रि पर कई विशेष योग बन रहे हैं जिसके कारण ये शिवरात्रि और भी महत्वपूर्ण हो गई है। आइए आपको बताते हैं आज किन विशेष शुभ संयोग के कारण ये शिवरात्रि खास हो गई है......

सावन शिवरात्रि पर गुरु पुष्य योग बन रहा है, शास्त्रों के अनुसार इस योग को सुख - समृद्धि कारक माना जाता है। अगर इस शुभ योग में सोना, वाहन, घर आदि खरीदा जाए तो इससे लाभ होता है। धन की इच्छा रखने वाले शिवभक्तों के लिए भी ये योग बहुत ही शुभ है। अगर आपको भी धन संबंधी परेशानी है तो आप आज माता लक्ष्मी के साथ ही शिव-पार्वती का पूजन करें। इससे धन संबंधी समस्या से छुटकारा मिलेगा। 

Savan Shivratri: To get rid of Kalsarpa defect, these solutions

शिवरात्रि, त्रयोदशी और गुरु पुष्य योग तीनों का संयोग होने से सावन की ये शिवरात्रि और भी खास हो गई है। ऐसे में अगर इस दिन शाम के समय भोलेनाथ की पूजा और अभिषेक किया जाए तो ये शुभफलदायी रहेगा। जो भक्त भोलेनाथ की विशेष कृपा प्राप्त करना चाहते हैं वे आज पूरी श्रृ़द्धा और भक्ति से भोलेनाथ की पूजा-आराधना करें।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

अगर आप भी चाहते हैं कि आपका नया प्लॉट वास्तुदोष से मुक्त हो तो इन चीजों का रखें ध्यान

अगर चाहते हैं कि माता लक्ष्मी आप पर रहें मेहरबान तो इस तरह से अपनी झाडू का रखें ध्यान



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.