देवकी के गर्भ से जन्म लेने के बाद भी कान्हा कहलाए यशोदा के पुत्र, जानिए क्यों

Samachar Jagat | Saturday, 01 Sep 2018 07:06:01 AM
Even after being born from Devaki's womb, Kanha, son of Yashoda said , Know why

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। भगवान कृष्ण ने देवकी के गर्भ से जन्म लिया इसके बाद भी पूरी दुनिया उन्हें यशोदानंदन कहकर पुकारती है। कृष्ण की मां के रूप में यशोदा को जाना जाता है, यह कोई इत्तफाक नहीं है बल्कि ये एक वरदान के परिणाम स्वरूप हुआ और इसके पीछे एक कथा छिपी हुई है जो इस प्रकार है......

इंसान को जीने की राह दिखाती है बांसुरी, जानिए क्या देती है संदेश

जब भगवान विष्णु ने राम का अवतार लिया उस समय कैकेयी राम से बहुत प्रेम करती थी इसके बाद भी वह राम के वनवास का कारण बनी। इसके बाद भी राम के मन में कैकेयी के प्रति स्नेह कम नहीं हुआ और वनवास से आने के बाद उन्होंने अपनी सगी मां कौशल्या के बराबर कैकेयी को आदर और सम्मान दिया । भगवान राम की इस उदारता को देखकर देवी कैकेयी ने राम से कहा कि पुत्र अगले जन्म में तुम मेरे गर्भ से जन्म लेकर मुझे अपनी माता बनने का सौभाग्य प्रदान करो।

भगवान श्री कृष्ण ने दिया था गुरु द्रोणाचार्य के पुत्र को श्राप, जानिए क्यों?

राम ने कैकेयी की इस इच्छा को पूर्ण करने के लिए अगले जन्म में उनके गर्भ से जन्म लेने का वचन दे दिया। राम अपनी माता कौशल्या को भी निराश नहीं करना चाहते थे। इसलिए राम ने कहा कि भले ही मैं माता कैकेयी का पुत्र बनकर अगला जन्म लूंगा लेकिन मैं आपका ही पुत्र कहलाऊंगा। भगवान राम के इस कथन के कारण श्री कृष्ण रूप में देवकी के गर्भ से जन्म लेकर भी कृष्ण यशोदा नंदन कहलाए।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

इस उपाय को अपनाकर आप भी खोल सकते हैं अपनी बंद किस्मत के दरवाजे

रावण ने यहां किया था भगवान शंकर पर गंगाजल अर्पित, सावन माह में लगती है भक्तों की भीड़

 

 

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.