त्याग और बलिदान का पर्व बकरीद 22 अगस्त को

Samachar Jagat | Monday, 20 Aug 2018 03:52:16 PM
Feasts and sacrifices Festival Bakrid On August 22

लखनऊ। त्याग और बलिदान के पर्व बकरीद को लेकर राजधानी लखनऊ समेत समूचे उत्तर प्रदेश में तैयारियां चरम पर हैं। इस बार यह त्योहार 22 अगस्त को मनाया जाएगा। इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक 12वें महीने ज़िल-हिज्जा की 10 तारीख को बकरीद मनाई जाती है। यह तारीख रमजान के पवित्र महीने के खत्म होने के लगभग 70 दिनों के बाद आती है। विश्व में इस त्योहार को ईद-अल-अज़हा और भारतीय उपमहाद्बीप में इस त्योहार को बकरीद के नाम से जाना जाता है।

गैर मुस्लिम समुदाय के बीच बकरीद में कुर्बानी चर्चा का विषय बना रहता है जबकि इस्लाम में अल्लाह की राह में कुर्बानी का खास महत्व है। बकरीद के अवसर पर इस्लामी कानून के अनुसार हलाल चौपाय जानवरों की कुर्बानी दी जाती है। बकरीद के अवसर पर दी जाने वाली कुर्बानी को सुन्नते इबराहीमा भी कहते हैं। हजरत इब्राहिम पैगम्बर थे। एक मान्यता के अनुसार अल्लाह ने उनके सपने में आकर आदेश दिया कि वे अपने बेटे हजरत इस्माइल की कुर्बानी दें। 

ब्रह्माजी और भगवान विष्णु में इस बात को लेकर हुआ विवाद, शिवजी ने काट डाला ब्रह्माजी का एक सिर

उन्होने अल्लाह के आदेश का पालन करते हुए अपनी आंखों में पट्टी बांधकर अपने बेटे की गर्दन पर छुरी चलायी और आंख खोलकर देखा तो पाया कि उनके बेटे के स्थान पर एक भेड़ कटी हुई है। इसके बाद अल्लाह के हुक्म पर इंसानों की नहीं जानवरों की कुर्बानी देने का इस्लामिक कानून शुरू हो गया। कुर्बानी के बाद बकरे के गोश्त को चार हिस्सों में बांटा जाता है जिसके तीन हिस्सा गरीब और जरूरतमंद लोगों के लिए निकाल दिया जाता है जबकि चौथे हिस्से का इस्तेमाल परिवार और रिश्तेदारों के भोजन के लिये किया जाता है। -एजेंसी

भगवान शिव के भी परमप्रिय सेवक हैं धन के देवता कुबेर, प्रसन्न करने के लिए करें इस मंत्र का जाप

अगर आपके घर में है किसी की शादी तो बिना पंड़ित के पास जाए इस तरीके से निकालें विवाह का मुहूर्त



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.