गंगा दशमी: पुण्य फल की प्राप्ति के लिए आज 10 वस्तुओं का दान कर करें गंगा स्त्रोत का पाठ

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Jun 2019 09:00:20 AM
Ganga Dashami Today donate 10 items for the achievement of virtue

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी को मां गंगा धरती पर अवतरित हुई थीं और इसी वजह से इस दिन को गंगा दशहरा मनाया जाता है। आज गंगा दशहरा है, मां गंगा की पूजा के साथ ही आज 10 चीजों का दान करना बहुत ही शुभ माना जाता है। जो लोग मां गंगा के दर्शनों के लिए नहीं जा पाते हैं वे घर में ही दस वस्तुओं जैसे दस तरबूज, 10 खरबूज आदि कोई भी चीज लेकर इस पर गंगाजल छिड़ककर इसका दान कर सकते हैं। इसके दान से भी उसी पुण्य फल की प्राप्ति होती है जो गंगा स्नान से होती है। इसके साथ ही आज गंगा स्त्रोत का पाठ करना भी लाभकारी रहता है,  इस दिन गंगा स्तोत्र का पाठ करने से व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिलती है। 

जानिए! क्यों गरूण देव की तस्वीर को घर में लगाना माना जाता है शुभ, क्या होते हैं इसके फायदे

गंगा स्तोत्र :-

देवि सुरेश्वरि भगति गंगे त्रिभुवनतारिणि तरलतरंगे ।
शंकरमौलिविहारिणि विमले मम मतिरास्तां तव पदकमले ।।1।।

भागीरथि सुखदायिनि मातस्तव जलमहिमा निगमे ख्यात: ।
नाहं जाने तव महिमानं पाहि कृपामयि मामज्ञानम ।।2।।

हरिपदपाद्यतरंगिणि गंगे हिमविधुमुक्ताधवलतरंगे ।
दूरीकुरू मम दुष्कृतिभारं कुरु कृपया भवसागरपारम ।।3।।

तव जलममलं येन निपीतं परमपदं खलु तेन गृहीतम ।
मातर्गंगे त्वयि यो भक्त: किल तं द्रष्टुं न यम: शक्त: ।।4।।

पतितोद्धारिणि जाह्रवि गंगे खण्डितगिरिवरमण्डितभंगे ।
भीष्मजननि हेमुनिवरकन्ये पतितनिवारिणि त्रिभुवनधन्ये ।।5।।

कल्पलतामिव फलदां लोके प्रणमति यस्त्वां न पतति शोके ।
पारावारविहारिणि गंगे विमुखयुवतिकृततरलापांगे ।।6।।

इन योद्धाओं की वजह से महाभारत का युद्ध हो गया अजर-अमर, किसी भी युग में कोई नहीं कर सकता इनकी बराबरी

तव चेन्मात: स्रोत: स्नात: पुनरपि जठरे सोsपि न जात: ।
नरकनिवारिणि जाह्रवि गंगे कलुषविनाशिनि महिमोत्तुंगे ।।7।।

पुनरसदड़्गे पुण्यतरंगे जय जय जाह्रवि करूणापाड़्गे ।
इन्द्रमुकुट मणिराजितचरणे सुखदे शुभदे भृत्यशरण्ये ।।8।।

रोगं शोकं तापं पापं हर मे भगवति कुमतिकलापम ।
त्रिभुवनसारे वसुधाहारे त्वमसि गतिर्मम खलु संसारे ।।9।।

अलकानन्दे परमानन्दे कुरु करुणामयि कातरवन्द्ये ।
तव तटनिकटे यस्य निवास: खलु वैकुण्ठे तस्य निवास: ।।10।।

वरमिह: नीरे कमठो मीन: कि वा तीरे शरट: क्षीण: ।
अथवा श्वपचो मलिनो दीनस्तव न हि दूरे नृपतिकुलीन: ।।11।।

भो भुवनेश्वरि पुण्ये धन्ये देवि द्रवमयि मुनिवरकन्ये ।
गंगास्तवमिमममलं नित्यं पठति नरो य: सजयति सत्यम ।।12।।

येषां ह्रदये गंगाभक्तिस्तेषां भवति सदा सुख मुक्ति: ।
मधुराकान्तापंझटिकाभि: परमानन्द कलितललिताभि:

गंगास्तोत्रमिदं भवसारं वांछितफलदं विमलं सारम ।
शंकरसेवकशंकरचितं पठति सुखी स्तव इति च समाप्त: ।।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

नकारात्मकता का प्रतीक होती हैं ये तस्वीरें, घर में रखने से व्यक्ति को करना पड़ता है अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना

भगवान विष्णु ने शिवजी को क्यों किया अपना एक नेत्र अर्पित, कैसे पड़ा इनका नाम कमल नयन, जानिए इस रोचक कथा के बारे में...



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.