हरियाली तीज : मनोवांछित वर की प्राप्ति के लिए कुंवारी कन्याएं आज रखें व्रत

Samachar Jagat | Monday, 13 Aug 2018 09:53:47 AM
Hariyali Teej: The fasting girl can be kept today for the desired purpose

धर्म डेस्क। सावन महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरियाली तीज मनाई जाती है। इस साल हरियाली तीज 13 अगस्त को है। तीज का व्रत करने से स्त्रियों को सुहाग और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। हर साल सभी बड़े चाव से तीज मनाते हैं लेकिन तीज क्यों मनाई जाती है। इसके बारे में बहुत कम लोगों को ही जानकारी होगी। आइए जानते हैं क्यों मनाई जाती है हरियाली तीज .....

हरियाली तीज :-

यह व्रत स्त्रियों के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है। इसे सबसे पहले गिरिराज हिमालय की पुत्री पार्वती ने किया था जिसके फलस्वरूप भगवान शंकर उन्हें पति के रूप में प्राप्त हुए। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, माता पार्वती वन में जाकर तब तक शिव जी का पूजन करती रहीं जब तक कि शिवजी प्रसन्न होकर पार्वती से विवाह के लिए राजी नहीं हुए। सावन माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया को भगवान शिव ने माता पार्वती की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें दर्शन दिए।

हरियाली तीज के दिन भगवान शिव ने देवी पार्वती को पत्नी के रूप में स्वीकार करने का वरदान दिया साथ ही देवी पार्वती के कहने पर शिव जी ने आशीर्वाद दिया कि जो भी कुंवारी कन्या इस व्रत को रखेगी और शिव - पार्वती की पूजा करेगी उनके विवाह में आने वाली बाधाएं दूर होंगी साथ ही योग्य वर की प्राप्ति होगी। तभी से इस तीज का महत्व बढ़ गया और कुंवारी लड़कियां भी मनोवांछित वर की प्राप्ति के लिए इस दिन व्रत रखकर माता पार्वती की पूजा करने लगीं। सुहागन स्त्रियों को इस व्रत से सौभाग्य की प्राप्ति होगी और लंबे समय तक पति के साथ वैवाहिक जीवन का सुख प्राप्त करेगी। 

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है। )

भगवान शिव के भी परमप्रिय सेवक हैं धन के देवता कुबेर, प्रसन्न करने के लिए करें इस मंत्र का जाप



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.