बच्चे को अगर नजर लग गई है तो करें ये उपाय, नजरदोष होगा दूर

Samachar Jagat | Tuesday, 31 Jul 2018 07:00:01 AM
If the child is taken of evil eye, take these measures

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। हिंदू धर्म में जब भी कोई विशेष पूजा की जाती है तो उस पूजा में पान के पत्तों को अवश्य शामिल किया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार जब समुद्र मंथन किया गया था उस समय पूजा में पान के पत्तों का उपयोग हुआ था और तभी से पूजा के समय पान के पत्तों का इस्तेमाल किया जाता है। आखिर क्यों पान के पत्तों को इतना शुभ माना जाता है आइए आपको बताते हैं इसके बारे में.....

आपको बता दें कि पान के पत्तों को घर में रखने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। घर से नकारात्मकता को दूर करने के लिए पान के पांच पत्तो को एक धागे में बाँधकर सूखने के लिए रख दें, जब ये पत्ते सुख जाएं तो इसे अपने घर के मुख्य द्वार पर लटका दें।

कार्य की सफलता के लिए काम पर जाते समय एक पान का पत्ता अपनी जेब में डालकर रखें। इससे आप जिस कार्य के लिए जा रहे हैं आपको उसमें सफलता मिलेगी।

अगर किसी को नजर लग गई है तो व्यक्ति को पान के पत्ते में सात गुलाब की पंखुडिया रखकर खिलाएं, नजरदोष दूर होगा। वहीं अगर बालक को नजर लग गई है तो पान के पत्ते को सात बार उसके ऊपर से उबारकर किसी चौराहे पर रख दें, बच्चे की नजर उतर जाएगी।

रोज सुबह गणेशजी के मंदिर में जाकर एक पान के पत्ते पर घी और सिंदूर मिलाकर स्वस्तिक बनाएं, उस पर कलावे में एक सुपारी को लपेटकर रख दें, धन वृद्धि होगी।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

अगर आप भी चाहते हैं कि आपका नया प्लॉट वास्तुदोष से मुक्त हो तो इन चीजों का रखें ध्यान

अगर चाहते हैं कि माता लक्ष्मी आप पर रहें मेहरबान तो इस तरह से अपनी झाडू का रखें ध्यान

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.