आर्थिक तंगी से परेशान हैं तो गंगा दशमी पर करें ये उपाय, पूरे साल नहीं होगी धन-धान्य की कमी

Samachar Jagat | Tuesday, 11 Jun 2019 09:24:13 AM
If you are troubled by financial hardship then take these measures on Ganga Dashmi

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी को मां गंगा मानव कल्याण के लिए धरती पर अवतरित हुई थीं और इसी वजह से इस दिन को गंगा दशहरा के नाम से जाना जाता है। इस दिन लोग गंगा में स्नान कर पुण्य लाभ कमाते हैं। इस दिन गंगा स्नान के साथ ही दान का भी विशेष महत्व होता है। कल गंगा दशमी है और जो लोग आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं या अन्य कई प्रकार की समस्याओं से परेशान हैं, वे गंगा दशमी पर कुछ खास उपाय कर सकते हैं। शास्त्रों के अनुसार गंगा दशमी पर अगर ये उपाय किए जाएं तो इससे भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और अपने भक्त की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। गंगा दशमी के दिन क्या उपाय करने चाहिए आइए जानते हैं इसके बारे में ..........

इन योद्धाओं की वजह से महाभारत का युद्ध हो गया अजर-अमर, किसी भी युग में कोई नहीं कर सकता इनकी बराबरी

गंगा दशमी पर सुबह उठकर स्नान आदि से निवृत्त होकर ओम नम: भगवते वासुदेवाय नम: मंत्र का जाप करें।

गंगा दशमी को घर के मुख्य द्वार पर आम के पत्तों से बनाया हुआ तोरण बांधने से घर के अंदर नकारात्मक शक्तियां प्रवेश नहीं कर पाती हैं और घर सकारात्मकता से भरा रहता है। 

जानिए! क्यों गरूण देव की तस्वीर को घर में लगाना माना जाता है शुभ, क्या होते हैं इसके फायदे

इस दिन मां गंगा की पूजा का विशेष महत्व होता है, पूजा में केले, सुपारी, पान, शहद, तिल, पंचांमृत आदि चीजों को अवश्य शामिल करें।

गंगा दशमी के दिन चांद निकलने के बाद खीर में मिश्री व गंगा जल मिलाकर भगवान को भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें। इससे आपके घर में कभी भी धन धान्य की कमी नहीं होगी।  

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

नकारात्मकता का प्रतीक होती हैं ये तस्वीरें, घर में रखने से व्यक्ति को करना पड़ता है अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना

भगवान विष्णु ने शिवजी को क्यों किया अपना एक नेत्र अर्पित, कैसे पड़ा इनका नाम कमल नयन, जानिए इस रोचक कथा के बारे में...



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.