अगर नुकसान से बचना है तो अपनी राशि के अनुसार धारण न करें ये रत्न

Samachar Jagat | Wednesday, 17 Apr 2019 07:00:01 AM
If you want to avoid loss, do not wear this gem according to your own Zodiac sign

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। ज्योतिष शास्त्र में बताया गया है कि व्यक्ति को अपनी राशि के अनुसार रत्न धारण करना चाहिए और ये भी बताया गया है कि किस राशि के लिए कौनसा रत्न शुभ होता है। अगर व्यक्ति अपनी राशि के अनुसार शुभ रत्न को धारण करता है तो इससे उसे लाभ होता है वहीं कुछ रत्न ऐसे होते हैं जिन्हें व्यक्ति को अपनी राशि के अनुसार धारण नहीं करना चाहिए। हम आपको यहां बता रहे हैं कि व्यक्ति को राशि के अनुसार किन रत्नों को धारण नहीं करना चाहिए, आइए आपको बताते हैं किस राशि के जातक के लिए कौनसा रत्न नहीं पहनना चाहिए ....... 

Loading...

मेष राशि :-

मेष राशि के जातकों को हीरा नहीं पहनना चाहिए, ये रत्न इनके लिए शुभ नहीं माना जाता है। 

वृष राशि :-

वृष राशि के जातकों को मूंगा रत्न धारण नहीं करना चाहिए।

सूर्य ने मीन राशि को त्यागकर किया मेष राशि में प्रवेश, जानिए आपकी राशि पर क्या पड़ेगा इसका असर

मिथुन राशि :-

मिथुन राशि के जातक अगर परेशानियों से बचना चाहते हैं तो नीलम रत्न न पहनें।

कर्क राशि :-

कर्क राशि के जातकों को मूंगा धारण नहीं करना चाहिए, ये इनके लिए शुभ नहीं माना जाता है। 

सिंह राशि :-

सिंह राशि के जातकों को हीरा पहनने से फायदे की जगह नुकसान होता है।

कन्या राशि :-

कन्या राशि के जातको को मूंगा रत्न धारण नहीं करना चाहिए।

तुला राशि :-

तुला राशि के जातकों को मूंगा रत्न पहनने से नुकसान होता है। 

वृश्चिक राशि :-

वृश्चिक राशि के जातक हीरा रत्न न पहनें, ये इनके लिए आर्थिक परेशानियों का कारण बनता है।

धनु राशि :-

धनु राशि के जातकों को पन्ना पहनने से नुकसान होता है।

एक महीने से बंद शुभ कार्य ख्रर मास समाप्त होते ही हुए शुरू, अप्रैल माह में हैं विवाह के इतने शुभ मुहूर्त

मकर राशि :-

मकर राशि के जातकों को पुखराज धारण न करने की सलाह दी जाती है। 

कुंभ राशि :-

कुंभ राशि के जातकों को भी पुखराज रत्न नहीं पहनना चाहिए।

मीन राशि :-

मीन राशि के जातक पन्ना रत्न पहनने से बचें।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.