अगर आप धन का संचय करना चाहते हैं तो इन वास्तु टिप्स को करें फॉलो

Samachar Jagat | Sunday, 21 Apr 2019 08:02:54 AM
If you want to increase your wealth with savings, keep in mind these things of Vastu

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। धर्म डेस्क। धन कमाना अलग बात है और उसका संचय करना अलग, कई बार व्यक्ति कमाता तो बहुत है लेकिन धन का संचय नहीं कर पाता है और इसी वजह से उसे आवश्यकता पड़ने पर आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आपको बता दें कि धनवान बनने के लिए धन कमाने के साथ ही धन बचाना भी जरूरी है और कई बार घर का वास्तु दोष धन संचय में बाधा उत्पन्न करता है। अगर घर में किसी प्रकार का वास्तुदोष हो तो धन संचय नहीं हो पाता है। इन वास्तुदोषों को दूर करने के लिए कुछ खास उपाय करने की आवश्यकता होती है। वास्तुशास्त्र में कुछ ऐसे उपाए बताए गए हैं जिन्हें अपनाकर व्यक्ति धन का संचय कर सकता है, आइए आपको बताते हैं इनके बारे में .................

महाभारत के युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाली ये महिला हवनकुंड से हुई उत्पन्न, जानिए जन्म से जुड़ी रोचक कथा के बारे में...

वास्तुशास्त्र के अनुसार, धन में वृद्धि और बचत के लिए तिजोरी अथवा धन रखने की अलमारी को दक्षिण की दीवार के पास कुछ इस तरह रखें कि इसका मुंह उत्तर दिशा की ओर रहे। पूर्व दिशा की ओर अलमारी का मुंह होने पर भी धन में वृद्धि होती है, लेकिन उत्तर दिशा सबसे उत्तम मानी गई है।

अगर इस मंदिर में पति-पत्नी एक साथ कर लें माता के दर्शन तो वैवाहिक जीवन में परेशानियां हो जाती है शुरू

नल से पानी का टपकते रहना वास्तुशास्त्र में आर्थिक नुकसान का बड़ा कारण माना गया है। बहुत से लोग इसे अनदेखा कर जाते हैं। वास्तु के अनुसार नल से पानी का टपकते रहना धीरे- धीरे धन खर्च होने का संकेत देता है। अगर नल से पानी टपक रहा हो तो उसे तुरंत ठीक करवा लें।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.