भारत के इन शिव मंदिरों में दिखता है भोलेनाथ का अनोखा रूप, लोग देखकर रह जाते हैं हैरान

Samachar Jagat | Monday, 04 Mar 2019 03:24:45 PM
In these Shiva temples of India, the unique form of Bholenath appears

धर्म डेस्क। आज महाशिवरात्रि है और पूरे देश में ये त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। इस दिन श्रद्धालु भगवान शिव के मंदिरों में जाकर विशेष पूजा-अर्चना करते हैं। ​महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर हम आपको भगवान शिव के कुछ खास मंदिरों के बारे में बता रहे हैं। आपको बता दें कि भारत में बहुत से शिव मंदिर ऐसे हैं जो अपनी अनोखी खासियत की वजह से पूरे विश्व में प्रसिद्ध हैं। इन मंदिरों को देखने के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं और इन्हें देखकर यही लगता है कि जैसे शिव प्रत्यक्ष रूप में यहां विराजमान हैं। आइए जानते हैं इन शिव मंदिरों के बारे में ....................

बाबा विश्वनाथ मंदिर :-

काशी में बाबा विश्वनाथ मंदिर का शिवलिंग बहुत ही बड़ा है, यह शिवलिंग 30 फीट व्यास और 55 फीट ऊंचे आकार का है। इस मंदिर का आकार ही इसे दूसरे मंदिर से खास बनाता है। 

महाशिवरात्रि स्पेशल : आज से खुल जाएंगे इन तीन राशियों की बंद किस्मत के दरवाजे, सुख-समृद्धि के साथ होगी धन की प्राप्ति

ममलेश्वर महादेव मंदिर :-

हिमाचल प्रदेश की करसोगा घाटी के ममेल गांव में स्थित ममलेश्वर महादेव मंदिर में 5000 साल से भी ज्यादा पुराना गेहूं का दाना है जिसके बारे में कहा जाता है कि ये दाना पांडवों का है और इसका वजन 200 ग्राम का है। मंदिर में पांच शिवलिंग हैं जिनकी स्थापना भी पांडवों द्वारा की मानी जाती है। 

लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर :-

छत्तीसगढ़ के खरौद नगर में स्थित लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर में एक लाख छिद्र वाला शिवलिंग है और इसी कारण इसे लक्षलिंग कहा जाता है। छिद्र के बारे में कहा जाता है कि इसका रास्ता पाताल की ओर जाता है।

सभी प्राणियों पर नजर रखते हैं आकाश में बैठे पूषन देवता, जानिए क्यों आया शिवजी को उन पर क्रोध

कंदारिया महादेव मंदिर :-

मध्य प्रदेश के खजुराहो में स्थित कंदारिया महादेव मंदिर 109 फुट लंबा, 60 फुट चौड़ा और 116 फुट ऊंचा है। इस मंदिर की अनोखी बात ये है कि यहां के प्रत्येक भाग में केवल दो और तीन फुट ऊंची मूर्तियों की संख्या ही 872 है और छोटी—छोटी मूर्तियां तो असंख्य हैं, जिनकी गिनती करना नामुमकिन है।

अचलेश्वर महादेव मंदिर :-

राजस्थान के धौलपुर जिले में स्थित अचलेश्वर महादेव मंदिर में स्थित शिवलिंग दिन मे तीन बार रंग बदलता है। यह शिवलिंग सुबह लाल रंग का दिखता है, दोपहर में केसरिया रंग का हो जाता है और जैसे-जैसे शाम होती है शिवलिंग का रंग सांवला हो जाता है। अपनी इसी अनोखी शासियत की वजह से ये मंदिर पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। 

(ये सभी जानकारियां शास्त्रों और ग्रंथों में वर्णित हैं, लेकिन इन्हें अपनाने से पहले किसी विशेष पंडित या ज्योतिषी की सलाह अवश्य ले लें।)

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसान



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.